Aeronautical Engineer kaise bane-

क्या आप Aeronautical Engineer बनना चाहते हैं। अगर आप एरोनॉटिकल इंजीनियर बनने का सपना देख रहे हैं, तो ये पोस्ट आपके लिए बहुत मददगार साबित होगी। ये आर्टिकल उन लोगो के लिए काफी अच्छा है। जो लोग Aeronautical Engineering के फील्ड में कैरियर बनाना चाहते हैं। इस पोस्ट में हम Aeronautical Engineering course के बारे में बिस्तार से बताएंगे। इसके साथ ही Aeronautical Engineering course fees क्या होती है। Aeronautical Engineering best college इंडिया में कौन से हैं। ये कोर्स किस इंस्टीट्यूट से करना चाहिए। एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में Career Scope क्या है। Aeronautical Engineering me Career kaise banaye इससे रीलेटेड पूरी इन्फॉर्मेशन यंहा पर आपको मिलेगी। इस लेख को पढ़ने के बाद एयरोनॉटिकल में कैरियर बनाने के लिए आपको अन्य पोस्ट पढ़ने की जरूरत नही रहेगी।

Aeronautical Engineer kaise bane


एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में यदि आप कैरियर बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए आप 12वीं पीसीएम के साथ कम से कम 50% अंको से पास हों। इसके लिए आप बीटेक इन एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, डिप्लोमा इन एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग जैसे कोर्स कर आप इस फील्ड में कैरियर बना सकते हैं। वैसे भी यह सेक्टर आज के समय मे युवाओ को काफी लुभा रहा है। 


Aeronautical Engineering me Career Scope


वर्तमान समय मे एविएशन सेक्टर में काफी ग्रोथ में है। साथ ही युवाओ में Aeronautical Engineering के प्रति क्रेज भी बहुत ज्यादा देखने को मिल रहा है। आप देश के अलावा विदेश में भी Aeronautical Engineer के तौर पर काम कर सकते हैं। Aeronautical Engineering के क्षेत्र में कुशल इंजीनियर की हर समय जरूरत रहती है। अगर आप भी Aeronautical Engineering course करके इस फील्ड में महारत हासिल कर लेते हैं, तो आपको यंहा जॉब पाने में दिक्कत नही होगी।Aeronautical Engineering में प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनो सेक्टर में कार्य के अवसर हैं।

Job Option in Aeronautical Engineering



गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब अवसर-

  • नेशनल एयरोनॉटिकल लेबोरेटरी
  • इसरो (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन)
  • डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट लैबोरेट्रीज (डीआरडीओ)
    रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार
  • हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल)


प्राइवेट सेक्टर या अन्य सेक्टरों में जॉब के अवसर-
फ्लाइंग क्लब्सप्राइवेट एयरलाइन्सएयरलाइन्सकॉरपोरेशन्सएयरक्राफ्ट मैन्युफैक्चरर्सएयरोनॉटिकल लैबोरेट्रीजएयरोनॉटिकल डेवलपमेंट ऐस्टैब्लिशमेंट्स 
इसके अलावा कुछ जॉब इंटरनेशनल गवर्नमेंट एजेंसीज़ जैसे नासा भी ऑफर करती हैं, आप वंहा भी कैरियर बना सकते हैं। नासा में तो कार्यरत इंजीनियर्स और टेक्निकल प्रोफेशनल्स में से काफी लोग इंडियन ही हैं। इसके साथ ही इसमे , यूएसए, फ्रांस, यूके और जर्मनी जैसे देशों में भी एयरोनॉटिकल इंजीनियर्स के लिए जॉब के बहुत ही ज्यादा अवसर हैं।

Aeronautical Engineering क्या है?

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग ( Aeronautical Engineering) में एयरक्राफ्ट को ऑपरेट करने की टेक्निक्स या फ्लाइट-केपेबल मशीन्स की स्टडी, डिज़ाइन और निर्माण से सम्बंधित कार्य होते हैं । Aeronautical Engineering में छात्रों को कमर्शियल या मिलिट्री एयरक्राफ्ट्स, मिसाइल्स और स्पेसक्राफ्ट्स के कंस्ट्रक्शन, डिजाइनिंग, टेस्टिंग और एनालिसिस से रीलेटेड ट्रेनिंग दी जाती है। Aeronautical Engineering में प्रोपल्शन, मेटीरियल्स साइंस, एवियोनिक्स और एरोडायनामिक्स से रीलेटेड टॉपिक भी शामिल होते हैं। इसके अलावा Aeronautical Engineering में  कमर्शियल एविएशन, डिफेंस सिस्टम्स और स्पेस एक्सप्लोरेशन में नई टेक्नोलॉजीज का विकाश कैसे किया जाए, ऐसे टॉपिक में शामिल होते हैं।


Qualification for Aeronautical Engineer

जो स्टूडेंट Aeronautical Engineering में कैरियर बनाना चाहते हैं, वे कम से कम 12वीं (PCM ) फिजिकिस, केमिस्ट्री, मैथ से पास हो। ऐसे स्टूडेंट्स BTech कोर्स अंतर्गत  Aeronautical Engineering के लिए एंट्रेंस एग्जाम देने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। जिसमे अधिकांश एंट्रेंस एग्जाम्स में आवेदन करने के लिए आपको कम से कम 60% मार्क्स 12वीं में होने चाहिए। इसके अलाव जो स्टूडेंट्स 12वीं क्लास की परीक्षा देने जा रहे हैं, वे भी इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं।
इसके लिए छात्रों की आयु 17 से 25 वर्ष के बीच होनीं चाहिए, केवल वे ही टेस्ट्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं।  आरक्षित वर्गों के उम्मीदवारों को आयु सीमा में 5 वर्ष की छूट देने का प्रावधान है।


Aeronautical Engineer Work


एयरोनॉटिकल इंजीनियर्स एयरक्राफ्ट, एयरोस्पेस इक्विपमेंट, स्पेसक्राफ्ट, सैटेलाइट्स और मिसाइल्स के डिज़ाइन, रिसर्च और प्रोडक्शन से जुड़ा कार्य करते हैं। जिसमें एयरक्राफ्ट और मिसाइल्स के रिसर्च और विकास कार्य, टेस्टिंग, पार्ट्स असेंबली से जुड़े कार्य और मेंटेनेंस के काम भी होते हैं।इसके अलावा  एयरोनॉटिक इंजीनियर्स (Aeronautical Engineers)एनवायरनमेंट पर एयरक्राफ्ट के प्रभाव, नई एयरक्राफ्ट टेक्नोलॉजीज के संभावित जोखिम और फ्यूल एफिशिएंसी संबंधी विषयों की स्टडी करते हैं।  Aeronautical Engineer सुपरसोनिक जेट्स, हेलीकॉप्टर्स, स्पेस शटल्स, सैटेलाइट्स और रॉकेट सर्च एवं सिलेक्शन से संबद्ध एक्स्ट्राऑर्डिनरी टेक्नोलॉजीज के विकास और डिज़ाइन से संबंधित कार्य करते हैं।

Also Read- ब्लॉगिंग से घर बैठे ऑनलाइन पैसे कमायें आसान तरीका सभी के लिए


Aeronautical Engineer के कार्य
Aeronautical Engineer एयरक्राफ्ट्स को डिज़ाइन, डेवलप और मेनटेन करने का काम करते हैं। वे एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर्स और फ्लाइट मेंटेनेंस टीम्स के साथ मिलकर काम को अंजाम देते हैं। 

Aeronautical Engineering में एंट्रेंस और बेस्ट कॉलेज की लिस्ट-


• दी इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ एरोनाटिक्स (आईआईए) एंट्रेंस एग्जाम
एसआईएलईटी एंट्रेंस एग्जाम (एसईटी)
• ऑल इंडिया इंजीनियरिंग/ आर्किटेक्चर एंट्रेंस एग्जाम (एआईईईई)
• आईआईएसएटी एडमिशन टेस्ट (आईआईएसटी, तिरुवनंतपुरम)
• दिल्ली यूनिवर्सिटी कंबाइंड एंट्रेंस एग्जाम (सीईई)
• आईआईटीज द्वारा आयोजित जेईई (जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम)
• हिंदुस्तान यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम (एचआईटीएसईई)
एसआरएम इंजीनियरिंग एंट्रेंस एग्जाम (एसआरएम ईईई) एडमिशन्स
यूपी पॉलिटेक्निक एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस एंट्रेंस एग्जाम

एमई/ एमटेक के लिए एंट्रेंस टेस्ट्स

इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट (गेट)
• सैथीबामा यूनिवर्सिटी एमई एंट्रेंस एग्जाम
• पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज पीएचडी एंट्रेंस एग्जाम
इन सभी एग्जाम में हिस्सा लेने वाले कॉलेज-
गुरु ग्राम इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, नागपुर
• गुरू ग्राम इंस्टिट्यूट ऑफ एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, गुड़गांव
• इंजीनियर्स ट्रेनिंग सेंटर (ईटीसी), त्रिशूर
• इंडियन इंस्टिट्यूट और एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, देहरादून
• अधियमान कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, होसूर
• गुरु नानक इंजीनियरिंग कॉलेज, हैदराबाद
• फ्लाईटेक एविएशन एकेडेमी, सिकंदराबाद
• हिंदुस्तान यूनिवर्सिटी, केलंबक्कम (तमिलनाडु)

• हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कोयंबटूर (तमिलनाडु)
हिंदुस्तान कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (एचआईसीईटी), कोयंबटूर
• इंडियन इंस्टिट्यूट फॉर एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, पुणे (महाराष्ट्र)
• भारत इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग और टैक्नोलॉजी (बीआईईटी), हैदराबाद
• हिंदुस्तान इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टैक्नोलॉजी (एचआईईटी), चेन्नई
• इंस्टिट्यूट ऑफ़ एयरोनॉटिकल एंड मैरीन इंजीनियरिंग, बैंगलोर (कर्नाटक)
• कुमारगुरु कॉलेज ऑफ टैक्नोलॉजी, कोयंबटूर
मोहम्मद सेठक इंजीनियरिंग कॉलेज, रामानाथापुरम
• मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मणिपाल
• नेहरू इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टैक्नोलॉजी (एनआईईटी), कोयंबटूर
• नेहरू कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड रिसर्च सेंटर, त्रिशूर
• जैन यूनिवर्सिटी, बैंगलोर (कर्नाटक)
• कर्पागम इंस्टिट्यूट ऑफ टैक्नोलॉजी, कोयंबटूर
• कुमारगुरु कॉलेज ऑफ टैक्नोलॉजी, कोयंबटूर
• एमएलआर इंस्टिट्यूट और टेक्नोलॉजी, हैदराबाद
• जया इंजीनियरिंग कॉलेज, तिरुवल्लूर
• एमवीजे इंजीनियरिंग कॉलेज, बैंगलोर
• एमएनआर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, हैदराबाद
• पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज, चंडीगढ़
• पार्क कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, कोयंबटूर
• साई फ्लाईटेक एविएशन प्राइवेट लिमिटेड, बिलासपुर
• इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस (आईआईएस), बैंगलोर
• वीएसएम इंस्टिट्यूट ऑफ़ एयरोस्पेस इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, बैंगलोर
● हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी
● आईआईटी (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी), मुंबई
• स्कूल ऑफ़ एयरोनॉटिक्स, द्वारका (गुजरात)
• सिद्धार्थ इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, बैंगलोर (कर्नाटक)
• सैथीबामा यूनिवर्सिटी, चेन्नई (तमिलनाडु)
• आरवीएस (रत्नावेल सुब्रह्मण्यम) कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी
• टैगोर इंजीनियरिंग कॉलेज (टीईसी), चेन्नई
• वेल्ल टेक इंजीनियरिंग कॉलेज, चेन्नई (तमिलनाडु)
• राजस्थान इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड इंजीनियरिंग साइंस, कोटा
• इंस्टिट्यूट और इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट्स एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग ट्रेनिंग एकेडेमी, पुणे (महाराष्ट्र)
एग्जाम पैटर्न-
इसमे फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स से क्वेश्चन पूछे जाते हैं। ये पूछे जाने वाले प्रश्न ऑब्जेक्टिव किस्म के होते हैं और छात्रों को हरेक प्रश्न के साथ दिए गए 4 ऑप्शन्स में से सही उत्तर देना होता है। इस परीक्षा की अवधि 3 घंटे होती है।


एंट्रेंस टेस्ट के लिए अप्लाई कैसे करें-

आप यूनिवर्सिटी या कॉलेज की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन या ऑफलाइन फॉर्म सबमिट कर सकते हैं। फिलहाल आजकल तो ज्यादातर एग्जाम के लिए ऑनलाइन ही आवेदन करना होता है।
इसके अलाव यूपी पॉलीटैक्निक भी एयरक्राफ्ट मेंटीनेंस इंजीनियरिंग में डिप्लोमा कोर्स के लिए के एग्जाम करवाती हैं।

वैसे तो आज के समय मे बहुत से ऐसे प्राइवेट इंस्टीट्यूट ने Aeronautical Engineering  में BTech और डिप्लोमा कोर्स कराये जा रहे हैं, लेकिंन ऐसे इंस्टीट्यूट में कोर्स करने के बाद जॉब मिल जाएगी, जरूरी नही। किसी भी प्राइवेट इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेने से पहले अच्छी तरह से जांच- पड़ताल कर लें।

4 thoughts on “Aeronautical Engineer kaise bane-”

    1. मार्क्स मेरिट में डिपेंड करते हैं, अगर मेरिट हाई जाती है तो ज्यादा मार्क्स लाने होंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *