Avation me Career kaise banaye।Avation Career-Details

Avation Career- क्या आपका दिल करता है कि आप हवाई जहाज के साथ आसमान में उड़ान भरें। क्या आप Avation me Career बनाना चाहते हैं। अगर आप एविएशन या Airlines me Career बनाने का सपना देख रहे हैं, तो इस पोस्ट को पढ़ने के बाद एविएशन में कैरियर बनाने का आपका सपना आसांनी से पूरा हो सकता है।
जो लोग एविएशन या एयरलाइन्स इंडस्ट्री में जाना चाहते हैं, लेकिन उनको ये नही पता कि Avation Course kya hai। इसमे कैरियर कैसे बनाएं। एविएशन में कैरियर Scope क्या है। best Avation institute इंडिया में कौन से हैं। इसके साथ ही Avation Course Fees कितनी होती है। इन सभी के बारे में इस पोस्ट में डिटेल में बताएंगे, जिससे आप आसानी से इस क्षेत्र में कैरियर बना सके. (All Details About Avation Career and Avation Jobs)

Avation me Career kaise banaye


अगर आप एविएशन इंडस्ट्री में कैरियर बनाने की सोच रहे हैं, तो आप सबसे पहले ये निश्चित करें कि आप Avation इंडस्ट्री के किस सेक्टर में जाना चाहते हैं। क्योकि Airlines इंडस्ट्री में बहुत सारे डिपार्टमेंट होते हैं, आप इनमें से किस सेक्टर में जाना चाहते हैं। यदि आप Pilot बनना चाहते हैं, तो आपको Pilot Course करना चाहिए। इसी तरह आप एयरपोर्ट मैनेजमेंट, एयरपोर्ट ग्राउंड स्टाफ, केबिन क्रू, एयरहोस्टेस, फ्लाइट इंजीनियर, एयर टिकटिंग, एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स, एयर कार्गो मैनेजमेंट, मीटिरियोलॉजिस्ट, ट्रेवल एंड टूरिज्म आदि सेक्टर में कैरियर बना सकते हैं।


Career Option in Avation Sector


Ground Staff – एयरपोर्ट की साफ- सफाई के साथ उसके रखरखाव की जिम्मेदारी का काम ग्राउंड स्टाफ का ही होता है। एयरपोर्ट पर हवाईजहाज जब उतर जाता है, तो उसके बाद पैसेंजरों की सुविधा और सुरक्षा का ध्यान रखना होता है। इसके साथ ही एयरपोर्ट पर सामान ढुलाई और माल स्टॉक का कार्य Airport Staff को ही कराना होता है। ग्राउंड स्टाफ की एयरपोर्ट पर अलग-अलग कार्य की जिम्मेदारी संभालते हैं।

Course For Avation Career


एयरपोर्ट ग्राउंड स्टाफ में कैरियर बनाने के लिए आप एयरपोर्ट मैनेजमेंट से रीलेटेड सर्टिफिकेट, डिप्लोमा, बैचलर और मास्टर लेवल के कोर्स कर इस फील्ड में प्रवेश कर सकते हैं। 12वीं के बाद आप इस सेक्टर में प्रवेश कर सकते हैं।

Cebin Crew-  केबिन क्रू में कैरियर के लिए यदि आपका व्यक्तित्व आकर्षक है, हिन्दी और अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड़ है, आपकी न्यूनतम योग्यता किसी भी विषय से 10+2 है, आपकी ऊंचाई 157 से 170 सेंटीमीटर के बीच है और आपकी आयु 17 से 26 वर्ष के बीच है, तो यह क्षेत्र आपके लिए ही है। इस कोर्स की 6 महीने से एक वर्ष की अवधि होती है। 

Air cargo Management- एयर कार्गो मैनेजमेंट में आप 6 माह से 1 बर्ष तक के डिप्लोमा इन इंटरनेशनल एयर कार्गो मैनेजमेंट कोर्स में आप एविएशन हिस्ट्री एवं जियोग्राफी के अतिरिक्त कार्गो लॉ, कस्टम्स रूल्स, वेयरहाउसिंग, एयरक्राफ्ट लिमिटेशन व लोडिंग कैपेसिटी, क्लीयरेंस प्रोसिजर, क्लेम रूल्स, बीमा और फ्री ट्रेड जोन जैसे विषयों से रूबरू होते हैं। इस क्षेत्र में भी प्रवेश के लिए आपको न्यूनतम 10+2 की शैक्षणिक योग्यता और 18 वर्ष से ऊपर एज होना चाहिए।


Air Ticketing- एयर टिकटिंग में प्रवेश के लिए न्यूनतम 10+2 की शैक्षणिक योग्यता और 18 वर्ष से ऊपर की आयु होनी चाहिए। न्यूनतम 6 माह से 9 माह तक की अवधि वाले कोर्स डिप्लोमा इन एयर टिकटिंग एंड ट्रैवल मैनेजमेंट में ट्रैवल एजेंसी बिजेनस, वर्ल्ड टाइम जोन, एयरपोर्ट व एयरलाइन कोड्स, पेमेंट मोड्स,फॉरेन करेंसी, पासपोर्ट व वीजा, आदि का परिशिक्षण दिया जाता है।

12th के बाद कौन सा कोर्स करना चाहिए

बीबीए होटल मैनेजमेंट में करियर कैसे बनायें


Travel and Tourism- इस क्षेत्र में प्रवेश करने पर भी आपको एविएशन में बहुत काम मिलेगा। 6 माह का सर्टिफिकेट कोर्स से लेकर तीन वर्षीय बैचलर इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट और उसमे बाद पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स भी उपलब्ध हैं, जिनको आप अपनी शैक्षणिक योग्यता के आधार कोई से कोर्स कर सकते हैं।


Pilot- अगर आप पायलट बनना चाहते हैं तो इस कोर्स के लिए न्यूनतम आयु 16 वर्ष रखी गई है। इसके साथ 12वीं में विज्ञान या गणित होना जरूरी है। सबसे पहले इसमें आपको फ्लाइंग क्लब से स्टूडेंट पायलट लाइसेंस हासिल करना पड़ता है और इसके बाद प्राइवेट पायलट लाइसेस (पीपीएल) या कॉमर्शियल पायलट लाइसेंस (सीपीएल) का कोर्स करना होता है। अगर आप कॉमर्शियल पायलट बनना चाहते हैं तो आपके लिए सीपीएल, वहीं अगर आप अपना प्राइवेट हवाई जहाज उड़ाना चाहते हैं तो आपके लिए पीपीएल आवश्यक होता है।


Air Hostes- वर्तमान समय मे इस कोर्स में बहुत ज्यादा कैरियर की संभावना है। इस कोर्स के लिए आप किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास होना चाहिए। ये कोर्स 6 महीने से 1 साल के होते हैं। एयरहोस्टेस या फ्लाइट पर्सर केबिन क्रू का हिस्सा होते हैं। इसेक लिए आपको अंग्रेजी आनी चाहिए। उसे मल्टी टॉस्किंग आनी चाहिए। इनका मुख्य कार्य यात्रियों का ध्यान रखने की जिम्मेदारी होती है।


Flight Engineer- एविएशन इंडस्ट्री में फ्लाइट इंजीनियर बहुत अहम व्यक्ति होता है। हवाई जहाज के पुर्जों की जांच करना इनकी जिम्मेदारी होती है। इसके लिए इलेक्टॉनिक्स इलेक्ट्रिकल्स, मैकेनिकल, एयरोनॉटिकल या कम्प्यूटर में से किसी एक में ग्रेजुएशन जरूरी है। अगर आपके पास फ्लाइट इंजीनियर का ग्राउंड पाठ्यक्रम या एयर क्राफ्ट इंजीनियर लाइसेंस या सीपीएल है तो आप अप्लाई कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि आपने 12वीं विज्ञान विषयों से पास की हो और आपकी उम्र तीस साल से ज्यादा ना हो, तो आप इसमें कैरियर बना सकते हैं।


Engineer- इस फील्ड में कैरियर बनाने के लिए आपके पास एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग या एयरक्राफ्ट मेंटीनेंस इंजीनियरिंग में डिग्री या डिप्लोमा होना चाहिए। इसके लिए आप बीटेक इन एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग या बीटेक इन एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस इंजीनियरिंग कोर्स कर सकते हैं। इसके लिए आप पीसीएम के साथ 12वीं पास हों।


Air Traffic Controller- एयर ट्रैफिक कंटोलर्स हर वक्त हवाई जहाज की गतिविधियों पर नजर रखते हैं। इस फील्ड में कैरियर बनाने के आप रेडियो इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रोनिक इंजीनियरिंग बीटेक या डिप्लोमा किये हों। 


मीटिरियोलॉजिस्ट- इसमे कैरियर बनाने के लिए अगर आपके पास मौसम विज्ञान, भौतिक, कम्प्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक्स, गणित और दूरसंचार में ग्रेजुएश, पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री है तो आप इसेक लिए अप्लाई करने योग्य हैं।

Best Institute for Avation Course

  • विंग्स कॉलेज ऑफ एविएशन टेक्नोलॉजी, पुणे
  • ए जे एविएशन एकेडमी, मुम्बई
  • हिंदुस्तान एविएशन एकेडमी, बंगलूरू
  • फ्रांकलिंन एविएशन एकेडमी, दिल्ली
  • राजीव गांधी एविएशन एकेडमी, हैदराबाद
  • इंडियन इंस्टीट्यू ऑफ एरोनॉटिक्स साइंस, जमशेदपुर
  • इंडियन इंस्टीट्यू ऑफ एरोनॉटिक्स, नई दिल्ली

Also Read

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *