BDS (Bachelor of Dental Surgery) Me Career kaise banaye

BDS Me Career kaise banaye- अगर आप बीडीएस कोर्स करना चाहते हैं या इस कोर्स के बारे में डिटेल में जानकारी चाहते हैं (BDS Course Details in hindi) तो इस पोस्ट में आपको इस कोर्स से जुड़ी हर जानकारी मिलेगी।

जैसेकि BDS Kya hai. क्या इसमे सक्सेजफुल कैरियर बनाया जा सकता है। इस कोर्स में एडमिशन कैसे मिलता है। इसकी फीस क्या होती है। इस कोर्स के लिए बेस्ट कॉलेज कौन से हैं तो इन सभी के बारे में यंहा पर डिटेल में इन्फॉर्मेशन मिलेगी।

BDS Kya hai

बीडीएस की फुल फॉर्म बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी (Bachelor of Dental Surgary) होता है। यह दंत चिकित्सा विज्ञान का अंडर ग्रेजुएट कोर्स होता है। जिसमे दाँतों की बिमारिओं और उनसे जुड़ी चीजों का अध्ययन किया जाता है। वर्तमान समय मे इस कोर्स की बहुत ही ज्यादा इम्पोर्टेंस है। इसलिए BDS Course करने के बाद आपको जॉब तुरंत ही मिल जाती है। चलिये अब जान लेते हैं कि इसमे आप कैरियर कैसे बना सकते हैं?

BDS Me Career kaise banaye

आज के समय मे दाँतों के डॉक्टर की काफी ज्यादा अहमियत होती है। हर किसी की फैमिली में किसी न किसी को दांतों की दिक्कत तो होती ही रहती है। ऐसे में Dental Doctor यानी कि दाँतों के डॉक्टर ही आपके दांतों की जांच कर समुचित तरीके से इलाज करते है। जिससे आपके दांत स्वास्थ्य रहते हैं।

इस फील्ड में कैरियर बनाने की चाहत रखने वाले कैंडिडेट्स को किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से फिजिक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी बिषय के साथ इंटरमीडिएट पास होना चाहिए। इसके बाद आपको नीट एग्जाम को पास करना होता है।

जब आप नीट एग्जाम को पास कर लेते हैं तो आपको इस Course में Admission मिल जाता है। कोर्स के साथ मे और कोर्स पूरा करने के बाद में आपको एक साल इंटर्नशिप करनी होती है। इंटर्नशिप में आपको दाँतों के डॉक्टर का मुख्य काम क्या होता है और उस काम को कैसे अंजाम देना है।

किसी भी बीमारी की कैसे पहचान करनी होती है और बीमारी का कैसे इलाज किया जाता है। जन सभी के बारे में आपको अच्छे तरह से नॉलेज हो जाता है। इंटर्नशिप पूरी हो जाने के बाद आप किसी भी Dental Hospital में Dental Doctor के तौर पर जॉब कर सकते हैं।

BDS Me Career Scope kya hai

यह काफी हाई डिमांडिंग कैरियर का क्षेत्र है। इसमे आप बहुत ही आकर्षक कैरियर बना सकते हैं। अन्य फील्ड की तरह BDS Course करने के बाद Job के लिए आपको इधर- उधर भटकना नही पड़ता है। डेंटल कोर्स की यही तो खासियत है कि आप कोर्स को पूरा करने के बाद आसानी से जॉब पा जाते हैं।

इस क्षेत्र में हाई डिमांड होने का प्रमुख कारण ये है कि आज के समय मे लगभग हर व्यक्ति को उसके दाँतों में कोई न कोई रोग या समस्या बनी ही रहती है। जिसको सिर्फ डेंटल डॉक्टर ही दूर कर सकता है।

ये भी पढ़े- बीएचएमएस डॉक्टर कैसे बनें

बीडीएस(Bachelor of Dental Surgary) कोर्स को पूरा करने के बाद आप किसी भी दाँत के हॉस्पिटल में डॉक्टर के तौर पर जॉब कर सकते हैं। यदि आप खुद का डेंटल हॉस्पिटल शुरू करना चाहते हैं तो आप खुद का भी हॉस्पिटल शुरू कर सकते हैं। इसलिए इसमें career की बेहतर ऑपर्चुनिटी हैं।

ये भी हैं बायोलोजी स्टूडेंट्स के लिए बेहतरीन कोर्स-

BDS कोर्स कितने साल का होता है (BDS Course Duration)

यह एक बैचलर डिग्री प्रोग्राम होता है। इस कोर्स की ड्यूरेशन 5 साल होती है। जिसमे 4 साल का कोर्स होता है और कोर्स के बाद 1 साल इंटर्नशिप करनी होती है। इस तरह इस कोर्स को कंप्लीट करने में कुल 5 साल लगते हैं।

BDS में कितना खर्च आता है (BDS course fees)

बीडीएस प्रोग्राम की फीस अलग- अलग संस्थानों में अलग- अलग होती है। फिलहाल इस कोर्स की एवरेज fees 60 हजार से लेकर 4 लाख प्रतिबर्ष के बीच होती है। देखिए आपको बता दें कि सरकारी संस्थानों में फीस कम होती है। लेंकिन सरकारी कॉलेज में एडमिशन के लिए आपका नीट में अच्छा स्कोर होना चाहिए। प्राइवेट संस्थानों में इस कोर्स की फीस काफी ज्यादा होती है। लेकिन इनमे आपको एडमिशन नीट में कम मार्क्स होने पर भी मिल जाता है।

Admission Process in BDS Course

इस कोर्स में एडमिशन नीट एग्जाम के माध्यम से होता है। नीट एग्जाम क्वालीफाई करने के बाद आपको अपने मार्क्स के अनुसार काउंसिलिंग में भाग लेना होगा। जिसमें आपके मार्क्स के अनुसार ही आपका कॉलेज आवंटित होता है। अगर आपको बहुत ही अच्छे Dental Medical College में एडमिशन लेना है तो आपको नीट एग्जाम की अच्छे से तैयारी करना चाहिए।

BDS Doctor Salary

एक कुशल दंत चिकित्सक को स्टार्टिंग में 25 से 30 हजार रुपये प्रतिमाह आसानी से मिल जाते हैं। अनुभव होने के बाद 50 से 70 हजार रुपये प्रतिमाह या इससे भी ज्यादा सैलरी मिल जाती हैं। फिलहाल ज्यादातर लोग BDS कोर्स करने के बाद 1 से 2 साल सिर्फ अनुभव हासिल करने के लिए जॉब करते हैं। इसके बाद वे खुद का ही Dental Clinic स्टार्ट करते हैं। क्योंकि अपने हॉस्पिटल या क्लिनिक से वे काफी ज्यादा कमाई कर सकते हैं।

BDS College in India

  • गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज डिब्रूगढ़
  • पटना डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल पटना
  • तमिलनाडु गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल
  • गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट बंगलोर
  • पंजाब गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज अमृतसर
  • क्रिस्चियन डेंटल कॉलेज लुधियाना
  • जवाहरलाल नेहरु इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंस इम्फाल
  • जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली
  • मौलाना आजाद इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंस दिल्ली
  • किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ
  • फैकल्टी ऑफ डेंटल साइंस बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल साइंस रोहतक
  • मणिपाल डेंटल कॉलेज
Important Question related to BDS Course

क्या दंत चिकित्सक उच्च मांग में हैं?

हां वर्तमान समय मे डेंटल डॉक्टर (दंत चिकित्सक) की काफी ज्यादा डिमांड है। दांत हमारे शरीर का बहुत ही प्रमुख अंग होते है। इसलिए इनकी देखभाल और इनको रोगमुक्त रखना हर किसी के लिए जरूरी होता है। इन रोगों को दूर करने का काम डेंटल डॉक्टर ही करता है। वैसे भी आज के समय में लोगों की ऐसी लाइफ स्टाइल हो चुकी है। जिससे कि नए- नए दाँतों के रोग भी सामने आ रहे है। इसलिए या फील्ड काफी हाई डिमांडिंग कैरियर है।

डेंटिस्ट बनने के लिए क्या करें?

एक अच्छा डेंटिस्ट बनने के लिए आपको बीडीएस कोर्स करना होगा। इस कोर्स के जरिये आप एक सक्सेजफुल डेंटिस्ट बन सकते हैं। अगर आप अपनी स्किल्स को और भी ज्यादा बढ़ाना चाहते हैं तो आप BDS के बाद में एमडीएस कोर्स भी कर सकते हैं।

दंत चिकित्सक बनने के लिए क्या करे?

जैसा कि मैं आपको आर्टिकल में ऊपर ही बता चुका हूं कि दंत चिकित्सक बनने के लिए सबसे पहले तो आप 12वीं पीसीबी सब्जेक्ट से कम से कम 55% अंकों से पास करें। इसके बाद आप नीट एग्जाम में अप्लाई करें। 12वी के साथ भी आप नीट एग्जाम में अप्लाई कर सकते हैं। इस एग्जाम को पास करने के बाद आप BDS Course में एडमिशन लें और कोर्स को पूरा करने के बाद दंत चिकित्सक बन सकते हैं।

ये भी हैं बायोलोजी स्टूडेंट्स के लिए बेहतरीन कोर्स-

क्या डेंटल असिस्टिंग एक करियर है?

जी हां डेंटल असिस्टिंग भी एक कैरियर है। यह भी उनके लिए काफी अच्छा कैरियर का ऑप्शन है। जो लोग दंत चिकित्सक के क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते हैं। डेंटल असिस्टेंट मुख्य तौर दे डेंटल डॉक्टर के असिस्टेंट के तौर पर कार्य करते हैं।

डेंटल असिस्टेंट बनने में क्या लगता है?

डेंटल असिस्टेंट बनने के लिए जरूरी है कि।कैंडिडेट को पीसीबी सब्जेक्ट से 12वीं पास होना चाहिए। इसके बाद में डेंटल हाइजीन या डेंटल मैकेनिक कोर्स कर डेण्टल असिस्टेंट बन सकते हैं।

क्या मुझे दंत सहायक प्रमाणपत्र के साथ नौकरी मिल सकती है?

जी हां मिल सकती है। अगर आपने किसी अच्छे और मान्यता प्राप्त कॉलेज से दंत सहायक प्रमाणपत्र प्राप्त किया है।

डेंटल तकनीशियन कोर्स क्या होता है।

डेंटल टेक्नीशियन कोर्स 2 बर्ष का डिप्लोमा।कोर्स होता है। इसकी 12वीं पीसीबी के स्टूडेंट्स कर सकते हैं। Dental टेक्नीशियन कार्य दाँतों के मरीजों का प्राथमिक उपचार करना होता है। दंत चिकित्सक के निर्देश के अनुसार ही इनको कार्य करना होता है, जैसेकि दाँतों की साफ- सफाई, फीलिंग, चेकअप, एक्सरे आदि।

डिप्लोमा इन डेंटल हीगेनिस्ट क्या होता है?

डिप्लोमा इन डेंटल हाइजीन 2 बर्षीय डिप्लोमा कोर्स होता है। 12वीं फिजीक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी बिषय के स्टूडेंट्स इस कोर्स को कर सकते हैं। डेंटल हाइजीनिस्ट दाँतों से संबंधित दाँतों की बीमारियों का पता करते हैं और उनका उपचार करते हैं। ये दाँतों की स्केलिंग, पॉलिशिंग, फिशर सीलेंट लगाने, एक्सरे करना आदि कार्य करते हैं।

MDS Course kaise kare

एमडीएस कोर्स करने के लिए जरूरी है कि कैंडिडेट ने BDS कोर्स किया हो। यानिकि BDS कोर्स के बाद ही MDS Course किया जा सकता है। यह दो साल का पोस्टग्रेजुएट कोर्स होता है। इसका पूरा नाम Master Of Dental Surgary होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *