Mass Communication Course kya hai

Mass Communication Course kya hai- आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि मास कॉम्युनिकेशन कोर्स क्या होता है और इसमे कैरियर कैसे बनायें। अगर आप भी इस फील्ड में कैरियर बनाने का सपना देख रहे हैं तो ये पोस्ट आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। क्योंकि इस पोस्ट में मास कॉम्युनिकेशन कोर्स और कैरियर से जुड़ी हर जानकारी प्रदान की गई है। जिससे कि आप इस Career ऑप्शन के बारे में सही जानकारी पाकर अपने लिये कैरियर का सही निर्णय ले सकें।

मास कम्युनिकेशन कोर्स क्या होता है?

सबसे पहले हम जान लेते हैं कि मास कॉम्युनिकेशन क्या है? मास कॉम्युनिकेशन जनसचार पत्रकारिता से संबंधित कोर्स होता है। इसमे आप डिप्लोमा इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म, BA in Mass Communication and journalism, बीएससी मास कॉम्युनिकेशन, बीजीएमसी, एमजेएमसी, एमए इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म जैसे कोर्स कर सकते हैं।

इस प्रोग्राम में क्या अनोखा है?

मास कॉम्युनिकेशन कोर्स की अनोखी बात ये है कि इस कोर्स को करने के बाद जॉब के बहुत सारे अवसर होते हैं। इस कोर्स के बाद आप न्यूज़ चैनल में न्यूज़ एंकर, न्यूज़ रिपोर्टर, कैमरामैन, न्यूज़ वीडियो एडिटर, न्यूज़ राइटर, न्यूज़ प्रोड्यूसर के तौर पर नौकरी कर सकते हैं।

मास कॉम्युनिकेशन कोर्स के बाद समाचारपत्र में रिपोर्टर, एडिटर, फ़ोटो जॉर्नलिस्ट के तौर पर कार्य कर सकते हैं। फ़िल्म जगत में भी मास कॉम्युनिकेशन के स्टूडेंट्स के लिए जॉब के अच्छे अवसर होते हैं।

मास कॉम्युनिकेशन प्रोफेशनल फ़िल्म और टीवी सीरियल में असिस्टेंट डायरेक्टर, आर्ट डायरेक्टर, कास्टिंग डायरेक्टर, साउंड इंजीनियर, प्रोडक्शन मैनेजर के तौर पर कार्य कर सकते हैं।

इतना ही नही मास कॉम्युनिकेशन के स्टूडेंट्स किसी भी कंपनी या फर्म में पब्लिक रिलेशन ऑफिसर, किसी भी हीरो, हेरोइन, नेता, अभिनेता, खिलाड़ी के सेलेब्रिटी मैनेजर भी बन सकते हैं।

मास कॉम्युनिकेशन कोर्स को पूरा करने के बाद एड एजेंसियों, सोशल मीडिया मार्केटिंग एजेंसियों और डिजिटल मार्केटिंग एजेंसियों में भी इन स्टूडेंट्स के लिए जॉब की भरपूर संभावनाएं होती है।

ये भी पढ़े- बॉलीवुड फिल्म एडिटर कैसे बने

आज के समय मे वेब मीडिया यानी कि न्यूज़ पोर्टल और वेब पोर्टल काफी ज्यादा हो चुके हैं तो आप इनमे भी कंटेंट राइटर के तौर पर जॉब कर सकते हैं। इतना ही नही आप खुद का भी वेब पोर्टल या न्यूज़ पोर्टल शुरू कर सकते हैं। अगर आपको न्यूज़ लिखना आता है तो जरूरी भी नही है कि आप मास कॉम्युनिकेशन कोर्स करें।

मास कम्युनिकेशन कैसे करें?

मास कॉम्युनिकेशन कोर्स को करने के लिए जरूरी है कि कैंडिडेट कम से कम 12वी किसी भी संकाय से पास हो। इसके बाद मास कॉम्युनिकेशन में डिप्लोमा या बैचलर डिग्री कोर्स किया जा सकता है।

प्रोग्राम में दाखिला लेने के लिए क्या योग्यता चाहिए?

अगर आप मास कॉम्युनिकेशन में डिप्लोमा कोर्स या बैचलर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो आप 12वीं पास हो। वंही अगर पीजी डिप्लोमा या मास्टर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो कम से कम किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन हों।

Mass communication course kitne saal ka hota hai

मास कॉम्युनिकेशन में डिप्लोमा कोर्स 2 बर्ष, बैचलर डिग्री 3 बर्ष की होती है और पीजी डिप्लोमा कोर्स 1 साल और मास्टर डिग्री 2 साल की होती है।

क्या इसके लिए कोई एंट्रेंस टेस्ट होता है?

मास कॉम्युनिकेशन कोर्स में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम भी विभिन्न कॉलेज और यूनिवर्सिटीज द्वारा आयोजित किया जाता है। इस कोर्स में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम और बिना एंट्रेन्स एग्जाम दोनो तरह से होता है। अगर आप बहुत ही अच्छे कॉलेज से इस कोर्स को करना चाहते हैं तो आपको एंट्रेंस एग्जाम देना होगा।

इस प्रोग्राम का मकसद क्या है?

इस प्रोग्राम का मकसद यही है कि स्टूडेंट्स के अंदर पत्रकारिता और जनसचार कि मूलभूत जानकारी प्रदान कर उनको इस फील्ड में काम करने के लायक बनाना होता है।

इस प्रोग्राम में किन मीडिया विषयों को शामिल किया गया है?

मास कॉम्युनिकेशन प्रोग्राम में मीडिया एंड कॉम्युनिकेशन थ्योरी, प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, ऑडियो एंड वीडियो प्रोडक्शन, एंकरिंग, रेडियो जॉकी, कैमरा एंड लाइटिंग, समाचार लेखन, फ़िल्म लेखन, फीचर लेखन, फ़िल्म संपादन, पब्लिक रिलेशन, विज्ञापन आदि बिषय शामिल किए गए हैं।

क्या छात्रों को मीडिया सॉफ्टवेयर पर काम करना सिखाया जाता है?

हां इस कोर्स के दौरान स्टूडेंट्स को मीडिया के फील्ड में यूज किये जाने वाले सॉफ्टवेयर के बारे में सिखाया जाता है। जैसे कि वीडियो एडिटिंग के लिए adove premire pro, फाइनल कट प्रो, ऑडोसिटी, adove फोटोशॉप, कोरल ड्रा, डीटीपी आदि।

मीडिया में जाने के लिए क्या करना पड़ता है?

कुछ स्टूडेंट्स का सवाल होता है कि मीडिया में जाने के लिए क्या करना पड़ता है तो इसके लिए हम आपको बता दें कि सबसे पहले आप 12वीं पास करें। इसके बाद में मास कॉम्युनिकेशन एंड जॉर्नलिज्म में डिप्लोमा या डिग्री कोर्स करें। इसके बाद किसी भी अच्छे मीडिया संस्थान में इंटर्नशिप करें। इंटर्नशिप के बाद में आप किसी भी मीडिया हाउस में जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

Mass Communication and Journalism ki fees kitni hoti hai?

इस प्रोग्राम की फीस 5 हजार से लेकर 1 लाख प्रतिबर्ष के बीच हो सकती है। यदि आप सरकारी संस्थान से इस कोर्स को कर रहे हैं तो आप 5 से 20 हजार प्रतिबर्ष में इसको कर सकते हैं। प्राइवेट कॉलेज में 50 हजार से 1 लाख प्रतिबर्ष के बीच फीस होती है।

Media me आने के लिए क्या स्किल्स जरूरी होती हैं?

आपकी कॉम्युनिकेशन स्किल बहुत ही अच्छी हो।

कैमरे जे सामने बोलने से डर न लगता हो।

हिंदी और इंग्लिश पर अच्छी पकड़ हो।

राइटिंग स्किल मजबूत हो।

कठिन से कठिन सिचुएशन में काम करने का जज्बा हो।

मास कम्युनिकेशन कोर्स कॉलेज इंस्टिट्यूट

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कॉम्युनिकेशन दिल्ली

माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी भोपाल

जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली

भारतीय विद्या भवन दिल्ली

जागरण इंस्टीट्यूट ऑफ कॉम्युनिकेशन दिल्ली

सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ कॉम्युनिकेशन

मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ कॉम्युनिकेशन

दिल्ली यूनिवर्सिटी

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी

पुणे यूनिवर्सिटी

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, आदि

Google me पूछे जाने वाले सवाल के जबाब

मास कम्युनिकेशन हिंदी मीनिंग

मास कॉम्युनिकेशन का मीनिंग जन संचार होता है। जनसचार का मतलब ये है कि जब हम बहुत ही बड़े स्तर पर लोगों से कॉम्युनिकेट यानी कि संचार करते हैं तो इसको मास कॉम्युनिकेशन कहा जाता है। जैसेकि टीवी रेडियो, समाचार पत्र से समाचार या खबर एक ही साथ पूरी दुनिया मे भेजे जाते हैं। इसी को मास कॉम्युनिकेशन कहा जाता है।

मास कम्युनिकेशन सिलेबस

मीडिया के सिद्धांत

प्रिंट मीडिया

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया

वेब मीडिया

फिल्म्स

वीडियो प्रोडक्शन

कैमरा एंड लाइटिंग

एंकरिंग

वीडियो एडिटिंग

साउंड रिकॉर्डिंग एंड इंजीनियरिंग

समाचार लेखन

फ़िल्म कहानी लेखन, आदि

इस प्रोग्राम में टाइम्स समूह का क्या योगदान है?

मीडिया के फील्ड में टाइम्स समूह का काफी योगदान है। बेनेट कॉलेज ऑफ मास कॉम्युनिकेशन जोकीं टाइम्स समूह का ही मीडिया कॉलेज है। यह इंडिया का बेस्ट प्राइवेट मीडिया कॉलेज है।

क्या बेनेट यूनिवर्सिटी फील्ड ट्रिप्स आयोजित कराता है?

हां बेनेट यूनिवर्सिटी मीडिया के स्टूडेंट्स को फील्ड में कैसे काम करना है। इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी देता है।

क्या बेनेट यूनिवर्सिटी इंटर्नशिप आयोजित कराती है?

बेनेट यूनिवर्सिटी मास कॉम्युनिकेशन के स्टूडेंट्स के किये इंटर्नशिप का भी आयोजन करती है। जिससे की स्टूडेंट मीडिया के एक्सपर्ट लोगों के साथ काम करते और सीखते हैं।

Mass Communication courses after 12th

अगर आप मास कॉम्युनिकेशन में डिप्लोमा कोर्स या बैचलर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो आप 12वीं पास हो। वंही अगर पीजी डिप्लोमा या मास्टर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो कम से कम किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन हों।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *