Military Science Course me Career kaise banaye-डायरेक्ट सेना में नौकरी

Military Science Course me Career kaise banaye in hindi- क्या आप सैन्य विज्ञान (मिलिट्री साइंस) में कैरियर बनाना चाहते हैं। अगर आप इस फील्ड में कैरियर बनाने का ख्वाब देख रहे हैं तो इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि Military Science Course Me Career kaise banye. इसके साथ ही आपको ये भी बताएंगे कि इसमें कैरियर स्कोप क्या है और जॉब की क्या संभावनाएं हैं? इस कोर्स की पढ़ाई कहाँ से करें एंड इसकी फीस क्या होगा और कैसे मिलेगा एडमिशन। इन सभी के बारे में हम बिस्तृत जानकारी देंगे।

Military Science Course me Career kaise banaye in hindi

मिलिट्री साइंस (सैन्य विज्ञान) में ऐसे सभी घरेलू और रणनीतिक मुद्दों को शामिल किया गया है, जो हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा और हमारे रक्षा के हितों को प्रभावित करते हैं। इसलिए Military Science course के महत्व को देखते हुए लगभग सभी देशों के कॉलेज, यूनिवर्सटीओं, एकेडमिक सब्जेक्ट के रूप में शामिल किया गया है। अगर आपकी भी डिफेंस सेक्टर या जोश और जज्बे के इस फील्ड में रुचि है, तो इस क्षेत्र में अनेकों कैरियर के विकल्प हैं।

डिफेंस स्टडीज यानी कि मिलिट्री साइंस में बैचलर डिग्री के लिए कैंडिडेट को किसी भी स्ट्रीम से 12वीं कम से कम 50% अंको से पास होना चाहिए। BA in Military Science या बीएससी इन मिलिट्री साइंस के बाद एमए इन मिलिट्री साइंस, एमए इन डिफेंस एंड स्ट्रेटेजिक स्टडीज, एमएससी इन मिलिट्री साइंस, मास्टर ऑफ फिलॉसफी इन डिफेंस एंड स्ट्रेटेजिक स्टडीज जैसे कोर्स कर सकते हैं।

वंही अगर अंतर्राष्ट्रीय संबंध, राष्ट्रीय सुरक्षा, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद से निपटने और रणनीतिक योजना, सैन्य प्रौद्योगिकी एवं उपकरण, रक्षा एवं आपदा प्रबंधन आदि में रुचि रखते हैं तो आप मास्टर डिग्री के बाद आप चाहें तो एमफिल और पीएचडी भी कर सकते हैं। वैसे Bsc या BA Military Science के बाद भी आप इस फील्ड में शानदार कैरियर की शुरुआत कर सकते हैं।

Difance Studies यानी कि मिलिट्री साइंस में मास्टर डिग्री के लिए मिलिट्री साइंस में बैचलर डिग्री होना अनिवार्य है। एडमिशन प्रक्रिया की बात करें तो कुछ कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में मेरिट के आधार पर एडमिशन मिलता है। वंही कुछ कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में एंट्रेंस एग्जाम के बाद ही प्रवेश मिलता है। एडमिशन के लिए अलग- अलग कॉलेजों में अलग- अलग क्राईटेरिया होता है।

बैचलर डिग्री कोर्स 3 साल का और मास्टर डिग्री Course की अवधि 2 साल होती है। इन कोर्स की फीस 7 हजार 2 लाख के बीच होती है। लखनऊ यूनिवर्सिटी और छत्रपति साहूजी महारज यूनिवर्सिटी कानपुर में तो इस कोर्स की फीस काफी कम है।

इस कोर्स की एक खासियत है जिसकी वजह से युवाओं का इस क्षेत्र में और भी रुझान बढ़ता जा रहा है वो ये है कि Military Science Course 55% अंको से पास करने के बाद कैंडिडेट को एयर फोर्स और आर्मी एजुकेशन कोर के लिए लिखित परीक्षा नहीं देनी होती है।

Career Scope in Military Science

इस क्षेत्र ने कैरियर की अनेक ऑपर्चुनिटी हैं। Military Science Course करने के बाद आप एयरफोर्स, इंडियन नेवी, इंडियन आर्मी में ऑफिसर, डिफेंस ऑफिसर, मिलिट्री ऑफिसर, ग्राउंड डयूटी ऑफिसर, सेना में कमीशंड अधिकारी, रिसर्च ऑफिसर, मिलिट्री इंटेलिजेंस स्पेशलिस्ट, डिफेंस जर्निलज्म आदि में सीधी भर्ती के माध्यम से कैरियर बना सकते है। इसके अलावा इंटरनेशनल फील्ड में रिसर्चर के तौर पर भी कैरियर बनाया जा सकता है साथ ही आप सोशियो-इकोनॉमिक स्पेशलिस्ट भी बन सकते हैं।

इस क्षेत्र में करियर की ढेर सारी संभावनाएं हैं। यह आपको एक देश से दूसरे देश के साथ वैश्विक मामले संबंध आदि की जानकारी देता है। इस फील्ड में कोर्स करने के बाद आप सोशियो-इकोनॉमिक स्पेशलिस्ट, इंटरनेशनल फील्ड में रिसर्चर बन सकते हैं।

Military Science में मास्टर डिग्री के बाद उम्मीदवार कॉलेज और यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर के रुप में जॉब कर सकते हैं। भू राजनीतिक मामलों, अंतर्राष्ट्रीय संबंध, सामाजिक-आर्थिक व सामरिक क्षेत्रों, युद्ध के भूगर्भ संबंधी मामलों में रिसर्चर के कार्य कर सकते हैं।

मिलिट्री साइंस डिग्री होल्डर मैगजीन, समाचारपत्र आदि में नेशनल सिक्योरिटी को लेकर आर्टिकल लिखकर मोटी कमाई कर सकते हैं।

Military Science Course करने के बाद किन क्षेत्र में काम कर सकते हैं?

राष्ट्रीय सुरक्षा योजना एवं क्रियान्वयन, रक्षा अनुसंधान और विश्लेषण, सशस्त्र सेना, सिविल डिफेंस, विदेश नीति बनाने, रक्षा पत्रकारिता, राष्ट्रीय सुरक्षा संगठन, अकादमिक रिसर्च, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, राजनयिक, नीति बनाने सोचने वाले टैंकों में शामिल होना, यूजीसी और सरकार के लिए पुस्तक लेखन व प्रकाशन कार्य, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में टीचिंग कार्य, सुरक्षा प्रदाता एजेंसियां आदि में कार्य कर सकते हैं।

Military Science के क्षेत्र में टॉप जॉब क्षेत्र

नेवी
आर्मी
सीआरपीएफ
एयरफोर्स
सीआईएसएफ
बीएसएफ
डीआरडीओ
कास्टगार्ड
रेलवे
एसएससी
इडसा
सीआईएसएफ

Course for Career in Military Science

बीएससी मिलिट्री साइंस
बीए मिलिट्री साइंस
एमए मिलिट्री साइंस
एमएससी मिलिट्री साइंस
पीएचडी मिलिट्री साइंस

मिलिट्री साइंस सैन्य (विज्ञान) की शाखाएं

सैन्य भूगोल
सैन्य संगठन
सैन्य प्रौद्योगिकी एवं उपकरण
सैन्य शिक्षण एवं प्रशिक्षण

Military Science के क्या है?

मिलिट्री साइंस (सैन्य विज्ञान) के अंतर्गत युद्ध तथा सशस्त्र संघर्ष से रिलेटेड मनोविज्ञान एव कार्यविधि, तकनीकों आदि के बारे में पढ़ाया जाता है। भारत के अलावा तमाम देशों में मिलिट्री साइंस की पढ़ाई विविध नामों से होती है। वंही भारत मे इसकी पढ़ाई मिलिट्री साइंस और स्ट्रेटेजिक स्टडीज के नाम से होती है।

इस कोर्स में स्ट्रेटजिक और घरेलू मामलों, खासकर देश की आंतरिक सुरक्षा और बाहरी रक्षा मामलों के साथ-साथ इतिहास और भौगोलिक मामलों की जानकारी भी दी जाती है। दुनिया भर की अनेक समस्याओं के अलावा राष्ट्रीय सुरक्षा, अंतरराष्ट्रीय कानून, रक्षा, इकोनॉमिक्स, क्षेत्र क्षेत्र अध्ययन, सैन्य मनोवैज्ञान, सैन्य समाजशास्त्र, युद्ध के नियम और सिद्धांत, आधुनिक रणनीतिक विचार , सैन्य विचारक, विज्ञान और तकनीक, अंतर्राष्ट्रीय संबंध आदि के बारे में पढ़ाया जाता है।

Military Science Course लिए संस्थान

जवाहरलाल यूनिवर्सिटी, न्यू दिल्ली
पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ
पंजाबी विश्वविद्यालय पटियाला
सीएसजेएम यूनिवर्सिटी कानपुर
लखनऊ यूनिवर्सिटी
इलाहाबाद विश्वविद्यालय
महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक
एमजेपी रोहेल खंड विश्वविद्यालय बरेली
हेमवती नंदन बहुगुणा गढवाल विश्वविद्यालय, उत्तराखंड पुणे विश्वविद्यालय पुणे
कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी
जम्मू यूनिवर्सिटी
ओषमनिया यूनिवर्सिटी
यूनिवर्सिटी ऑफ पुणे
यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास
डॉ भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी
सरकार मोहिंद्रा कॉलेज पटियाला
मोदी कॉलेज पटियाला
खालसा कॉलेज पटियाला
खालसा कॉलेज आनंदपुर साहिब
गुरु गोबिंद कॉलेज, संगेरा
राजकीय महिला महाविद्यालय नारनौल,
गवर्नमेंट कॉलेज एटली
गवर्नमेंट कॉलेज नंगल चौधरी
गवर्नमेंट कॉलेज नारनौल
राजकीय महिला महाविद्यालय खरखौदा सोनीपत
गवर्नमेंट कॉलेज भट्ट कल्याण
गवर्नमेंट कॉलेज आदमपुर
सरकारी पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज हिसार

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *