PGDM Course Details in Hindi

PGDM Course details in Hindi: इस लेख में हम पीजीडीएम कोर्स की डिटेल में जानकारी देंगे। अगर आप भी इस कोर्स को करना चाहते हैं या इस कोर्स से जुड़ी हर जानकारी पाना चाहते हैं तो आपका हमारे ब्लॉग careerkaisebane.in पर आपका स्वागत है। यंहा पर आपको पीजीडीएम से जुड़ी हर वो इन्फॉर्मेशन मिलेगी, जोकीं इस कोर्स में एडमिशन लेने से पहले आपको जानना जरूरी है।

मैनेजमेंट के फील्ड में कैरियर बनाने के लिए MBA Course होता है, ये तो सभी को मालूम होता है, लेकिन PGDM कोर्स के माध्यम से भी आप मैनेजमेंट के सेक्टर में शानदार कैरियर को शुरुआत कर सकते हैं। जो जॉब्स आप एमबीए कोर्स के बाद कर सकते हैं, वंही जॉब आप PGDM के बाद भी कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में हम MBA और PGDM में क्या अंतर होता है, ये भी बताएंगे और साथ ही PGDM kya hai इसमे कैरियर कैसे बनायें? इस कोर्स को कंहा से करना चाहिए और कहाँ से नही, इसके लिए कौन से बेस्ट कॉलेज हैं? PGDM कोर्स की फीस कितनी होती है। किस तरह से इस कोर्स में एडमिशन मिलता है। कोर्स के बाद जॉब कंहा मिलेगी और किस पोजीशन की जॉब मिलेगी। इस फील्ड में कितनी सैलरी मिलती है। कोर्स करने के तुरंत बाद कैसे जॉब मिलेगी।

इन सभी PGDM Course से संबंधित तमामं प्रश्नों के जबाब इस आर्टिकल में मिलेंगे। हमारे इस आर्टिकल की सबसे बड़ी खासियत ये है, कि इसको पढ़ने के बाद आप ये डिसाइड कर पाएंगे कि आपको PGDM करना चाहिए या नही। चलिये PGDM Course details in hindi इसके बारे में विस्तार से जानते हैं। ताकि आप अपने कैरियर के सही चुनाव कर सकें।

PGDM Course Details in Hindi

सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि पीजीडीएम क्या है? पीजीडीएम का फुल फॉर्म पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट होती है। यह बिजनेश मैनेजमेंट (व्यवसाय प्रबंधन) में दो साल का पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स है। जोकीं उद्योग जगत की आवश्यकताओं को प्रोफेशनल कैंडिडेट्स प्रदान करता है। जिससे कि ये प्रोफेशनल सुचारू रूप से किसी भी कंपनी के बिज़नेस का प्रबंधन व संचालन कर सकें।

इस कोर्स का उद्देश्य छात्रों को उद्योग जगत के लिए तैयार करने के लिए कठोर केस स्टडी और सेमिनारों के साथ प्रबंधन प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रदान करना है। पीजीडीएम एक ऐसा डिप्लोमा प्रोग्राम होता है जिसमें मैनेजमेंट के बारे डिटेल मेंं पढ़ाया जाता है। इसमें मुख्यतया मैनेजमेंट और कम्युनिकेशन से जुड़े विषयों का प्रैक्टिकल नॉलेज दिया जाता है।

जो संस्थान All India Council for Technical Education (AICTE) द्वारा मान्यता प्राप्त है वही पीजीडीएम का कोर्स करवा सकते हैं। वंही अगर पीजीडीएम कोर्स करवाने वाले इंस्टिट्यूट Association of Indian Universities (AIU) से मान्यता प्राप्त है तो वहां से किया गया पीजीडीएम कोर्स MBA के बराबर वैलिड होता है।

Qualification for PGDM Course

पीजीडीएम करने के लिए उम्मीदवार को किसी भी संकाय से ग्रेजुएशन होना चाहिए। ग्रेजुएशन में 50 से 60% अंक हों तो ज्यादा अच्छा है। अगर आप IIM जैसे अच्छे संस्थान से PGDM करना चाहते हैं तो ग्रेजुएशन में 60% मार्क्स हों।

Career Scope of PGDM Course (पीजीडीएम में कैरियर स्कोप क्या है)

पीजीडीएम मैनेजमेंट सेक्टर का अहम कोर्स है। इसलिए इस फील्ड में कैरियर की संभवनाएं तो काफी अच्छी होती है। इस कोर्स के बाद अनेक एक से बढकर एक जॉब के अवसर मिलते हैं। बशर्ते कैंडिडेट में इस इंडस्ट्री में कैरियर बनाने के लायक स्किल्स होनी चाहिए।

आज कॉम्पटीशन का जमाना है। हर कंपनी अपने बिजनेस को उचाईयों तक ले जाना चाहती है। इसके लिए ये विभिन्न कंपनियां और संस्थान पीजीडीएम या MBA डिग्री धारकों को मैनेजर या असिस्टेंट मैनेजर के तौर पर नियुक्ति करती हैं। जिससे कि ये मैनेजर उनकी कंपनी और उनके बिज़नेस का सुचारू रूप से प्रबंधन और संचालन कर सकें।

इस फील्ड में ग्रोथ के अच्छे अवसर इसलिए हैं, क्योंकि आज के समय मे इंडिया में अनेक छोटी- बड़ी कंपनियां बिजनेस कर रही हैं, जंहा पर PGDM डिग्री धारकों के लिए जॉब के अवसर होते हैं। लगभग हर सेक्टरों में PGDM के कैंडिडेट्स की नियुक्ति की जाती है।

हेल्थकेयर सेक्टर को ही ले लें। इसमे भी पीजीडीएम के कैंडिडेट हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन के फील्ड में जॉब कर सकते हैं। इसमे साथ ही तमामं हॉस्पिटल्स, फार्मेसी कंपनी, सर्जिकल इक्विपमेंट मेकिंग कंपनी जैसे हेल्थकेयर बिजनेस सेक्टरों में भी पीजीडीएम के डिग्री धारकों को मैनेजेरियल पोस्ट पर नियुक्त किया जाता है।

इसके अलावा मीडिया और एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में तो पीजीडीएम के डिग्री होल्डर के लिए काफी अच्छे अवसर होते हैं। मीडिया संस्थानों को सुचारू रूप से हैंडल करने के लिए और उनका संचालन और प्रबंधन में PGDM के कैंडिडेट की नियुक्ति की जाती है।

आज के समय मे सेल्स और मार्केटिंग काफी बूम पर है। हर कंपनी का सारा फोकस सेल्स और मार्केटिंग पर होता है, क्योंकि कंपनियां कोई न कोई प्रोडक्ट या सर्विसेज तो बनाती ही हैं, जिसकी उनको सेल बढानी है और उसके बारे में मार्केटिंग करके उसकी अवेयरनेस को बढ़ाना है, जिससे कि ज्यादा से ज्यादा लोग उनके प्रोडक्ट और सर्विस के बारे में जान सकें। इन कार्यों को अंजाम देने के लिए सभी कंपनी और संस्थान सेल्स और मार्केटिंग मैनेजर की नियुक्ति करते हैं। जिसके लिए आवश्यक योग्यता MBA और PGDM होती है।

इस तरह से और भी बहुत से सेक्टर जैसेकि एजुकेशन, फाइनेंस, बैंकिंग, रियल स्टेट, एडवरटाइजिंग, सप्लाई चेन मैनेजमेंट, एचआर, सेलेब्रेटी मैनेजमेंट, इवेंट मैनेजमेंट जैसे अनेक सेक्टरों में PGDM के कैंडिडेट के लिए जॉब के बेहतरीन अवसर होते है। इस तरह से अगर आप पीजीडीएम कोर्स करना चाहते हैं तो ये आपके लिए राइट डीसीजन होगा। लेकिन इस फील्ड के लिए कुछ आवश्यक स्किल जरूरी होती है, अगर आपके अंदर वो स्किल्स हम तो जॉब आसानी से मिल सकती है। वरना हजारों लोग डिग्री लिए बेरोजगार घूम रहे हैं।

PGDM के फील्ड में कैरियर बनाने के लिए स्किल्स:

कम्युनिकेशन स्किल्स

गुड कमांड ऑन इंग्लिश

लीडरशिप स्किल

प्रॉब्लम सोलबिंग स्किल

क्रिटिकल थिंकिंग

PGDM Course में एडमिशन कैसे मिलेगा?

पीजीडीएम कोर्स में एडमिशन डायरेक्ट भी मिल जाता है और प्रवेश परीक्षा के माध्यम से भी इसमे एडमिशन मिलता है। जो भी संस्थान डायरेक्ट एडमिशन देते हैं, वो संस्थान कोई खास अच्छे नही होते हैं। जितने भी ऐसे मैनेजमेंट संस्थान जोकीं एंट्रेंस एग्जाम, ग्रुप डिस्कशन के बाद इंटरव्यू देते हैं। आमतौर पर एडमिशन की ये प्रक्रिया रेपुटेड कॉलेजों में अपनाई जाती।

रेपुटेटेड और फेमस संस्थानों से कोर्स करने का फायदा ये होता है, कि वहाँ से कोर्स करने के बाद आपको जॉब आसानी से मिल जाती हैं। क्योंकि एजुकेशन कल्चर बहुत ही स्ट्रांग होता है। वंहा पर वो सारी स्किल्स और नॉलेज कैंडिडेट को दी जाती है, जिससे कि भविष्य में वे किसी भी संस्थान को लीड कर सकें। वंहा पर अच्छे टीचर, अन्य फैसिलिटी होते हैं। इसके साथ ही बड़ी- बड़ी कंपनियां भी प्लेसमेंट के लिए इन संस्थानों में इंटरव्यू कंडक्ट करती हैं। चलिये अब हम आपको एंट्रेंस एग्जाम के बारे में बता देते हैं, जिनके जरिये आप बेस्ट PGDM College में एडमिशन पा सकते हैं।

PGDM Entrance Exam

पीजीडीएम अगर आप अच्छे संस्थान से करना चाहते हैं, तो आप CAT,XAT, MAT, SNAP, GMAT, NMAT इन एग्जाम के जरिये इंडिया के बेस्ट मैनेजमेंट कॉलेज में एडमिशन पा सकते हैं।

PGDM Course Fees

इस कोर्स की फीस का क्राइटेरिया अलग- अलग संस्थानों में अलग- अलग होता है।प्राइवेट और गवर्नमेंट संस्थानो में फीस का काफी बड़ा अंतर होता है। सरकारी संस्थानों में फीस काफी कम होती है और प्राइवेट संस्थानों में काफी ज्यादा फीस होती है। फिलहाल इस कोर्स की फीस 1 लाख से लेकर 10 लाख तक हो सकती है।

Types of PGDM Course

पीजीडीएम कोर्स तीन तरह से आप कर सकते हैं।

Regular: जिसमे एक तो फुल टाइम रेगुलर कोर्स होता है। इसको आपको रेगुलर क्लास जॉइन करनी होती है। फिलहाल पीजीडीएम के तीनों कोर्स में यही कोर्स सबसे अच्छा होता है।

Distance Mode: जो लोग जॉब करते हैं या अन्य किसी वजह से पीजीडीएम करना चाहते हैं, तो ऐसे उम्मीदवार डिस्टेंस मोड से इस कोर्स को कर सकते हैं। इसमे आपको रेगुलर क्लास नही जॉइन करनी होती है। बस आपको एग्जाम देने जाना होता है। अगर आप इस तरह से पीजीडीएम करना चाहते हैं तो मैं आपको यही सलाह दूंगा की अगर आप मैनेजमेंट के फील्ड में ही जॉब कर रहे हैं और आप अपनी स्किल्स और जॉब पोजिशन को बढ़ाना चाहते हैं, तब तो आपको डिस्टेंस मोड़ से PGDM करना चाहिए। वरना आप इस तरह से पीजीडीएम न करें, नही तो जॉब मिलना मुश्किल जो जाएगा।

Online: अब तो कुछ संस्थान ऑनलाइन भी पीजीडीएम कोर्स करवाने लगे हैं। आप चाहें तो ऑनलाइन भी PGDM कर सकते हैं, लेकिन ऑनलाइन उन्ही लोगों के लिए अच्छा है, जो पहले से ही मैनेजमेंट फील्ड में जॉब कर रहे हैं। ज्यादातर सभी कंपनीयां रेगुलर मोड़ से PGDM किये स्टूडेंट्स को ही हायर करती हैं। फिलहाल आप अपनी चॉइस के मुताबिक कोई सा भी पीजीडीएम कोर्स कर सकते हैं।

Which PGDM course is in demand?

दोस्तों पीजीडीएम कोर्स कई सारे फील्ड या सब्जेक्ट में होता है। आपको जिस भी फील्ड में जाना हो, उसी में PGDM करना चाहिए, जैसेकि अगर आपकों मार्केटिंग में जाना है तो आप PGDM in Marketing कर सकते हैं। अगर आप को मीडिया मैनेजमेंट में रुचि है तो आप पीजीडीएम इन मीडिया मैनेजमेंट कर सकते हैं। इसी तरह अगर आपको हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन में रुचि है तो आपको PGDM in Health Adminstration में करना चाहिए। इस तरह से और भी अनेक सब्जेक्ट में PGDM उपलब्ध है। चलिये मैं आपको हाई डिमांडिंग पीजीडीएम कोर्स के बारे में बताते हैं।

पीजीडीएम इन फाइनेंस

पीजीडीएम इन मार्केटिंग

पीजीडीएम इन ऑपरेशन्स

पीजीडीएम इन इंटरनेशनल बिजनेस

पीजीडीएम इन आईटी

पीजीडीएम इन मीडिया मैनेजमेंट

पीजीडीएम इन सप्लाई चेन एंड लॉजिस्टिक

पीजीडीएम इन हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन

पीजीडीएम इन एचआर

Job profile after PGDM Course (पीजीडीएम के बाद किन पदों पर मिलेगी जॉब)

पीजीडीएम कोर्स करने के बाद में आपको मैनेजर या असिस्टेंट मैनेजर की पोस्ट पर जॉब मिलती है।

What is the salary after doing PGDM?

इस फील्ड में सैलरी काफी आकर्षक मिलती है, क्योंकि पीजीडीएम के डिग्री धारक किसी भी संस्थान में शीर्ष पोजीशन पर जॉब करते हैं। इस फील्ड में आमतौर पर 50 हजार से एक लाख रुपये प्रतिमाह सैलरी मिलती है। लेकिन अगर आप इंट्री लेवल पर या फ्रेशर के तौर पर इस फील्ड में कैरियर की शुरुआत करते हैं, तो यँहा पर आपको 20 से 30 हजार रुपये प्रतिमाह की सैलरी मिल सकती है।

अगर आपने अच्छे कॉलेज से PGDM किया है और आपको फील्ड का अच्छा नॉलेज है। वरना लोगों को 10 हजार प्रतिमाह की भी जॉब नही मिलती है। ऐसा नही है, कि जॉब की कमी है। कमी है, तो सिर्फ टैलेंटेड लोगों की। जिन लोगों को इंडस्ट्री की अच्छी समझ होती है और उनको फील्ड का अच्छा नॉलेज होता है, तो उनको जॉब मिलने में कोई दिक्कत नही होती है।

PGDM Course से सम्बंधित गूगल में सर्च किये जाने वाले प्रश्न:

PGDM कोर्स कंहा से नही करना चाहिए?

अगर आप मैनेजमेंट के सेक्टर में अपने कैरियर को बुलंदियों तक ले जाना चाहते हो, तो आप उल्टे सीधे मैनेजमैंट कॉलेजों से PGDM न करें। कोशिश करें, आप इंडिया के बेस्ट मोस्ट पॉपुलर कॉलेज और यूनिवर्सिटीज से ही PGDM करें।

बहुत से लोगों को मैंने देखा है कि वे PGDM किये हैं, लेकिन उनको छोटी-मोटी जॉब भी नही मिल पा रही है। ये जॉब न मिलने का कारण यही है, कि आपने अच्छे कॉलेज से कोर्स नही किया है। जिस वजह से आपके मैनेजमेंट फील्ड की अच्छी जानकारी और स्किल्स डेवलप नही हो पाईं। जिसकी वजह से आप डिग्री होल्डर होते हुए भी बेरोजगार रह जाते हैं।

हमेशा अच्छे कॉलेज से PGDM करें, जिससे कि वंहा से आपको इस फील्ड से संबंधित सारी नॉलेज, स्किल्स की जानकारी होगी और आपको अच्चो जॉब मिल जाती है। मैं आपको पोस्ट के अंत ने इंडिया के बेस्ट PGDM कॉलेज के बारे में बता दूंगा, जंहा से कोर्स करना आपके कैरियर के लिए बहुत ही फायदेमंद रहेगा।

PGDM में कौन से सब्जेक्ट पढ़ाये जाते हैं?

आप जिस भी सब्जेक्ट से पीजीडीएम कोर्स करते हैं, उसी फील्ड से संबंधित आपको सब्जेक्ट पढ़ाये जाते हैं। जैसेकि अगर आप हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में PGDM कर रहे हैं, तो आपको हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन से संबंधित ही सब्जेक्ट पढ़ाये जाते हैं। बस दो सब्जेक्ट कॉमन होते हैं, वो आपको हर तरह के PGDM कोर्स में पढ़ाई जाते हैं। जैसेकि कंप्यूटर एप्लिकेशन और पर्सनालिटी डेवलोपमेन्ट एंड कॉम्युनिकेशन।

MBA और PGDM दोनो में से कौन सा कोर्स अच्छा है?

MBA और PGDM ये दोनों बिल्कुल समान नहीं हैं, लेकिन उनके कुछ मुख्य विषय समान हैं। AIU से मान्यता संस्थान के PGDM प्रोग्राम को MBA के बराबर ही मान्यता है। अधिकांश निजी और सरकारी विश्वविद्यालय पीजीडीएम पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं। जॉब के दौरान एमबीए और पीजीडीएम कोर्स को समकक्ष ही माना जाता है। लेकिन यंहा पर कुछ पैरामीटर हैं, जोकीं MBA को ज्यादा बेहतर सिद्ध करते हैं।

एमबीए के बाद पीजीडीएम की तुलना में सैलरी ज्यादा मिलती है।

अगर एक ही पोजिशन के लिए दो कैंडिडेट एक पीजीडीएम और दूसरा MBA का कैंडिडेट है और जॉब के लिए जाते हैं तो। अगर दोनों में समान ही अनुभव और स्किल्स हैं तो ऐसे में MBA के डिग्री धारक को वरीयता दी जा सकती हैं।

MBA के बाद आप मैनेजमेंट में कैंडिडेट को पीजीडीएम की तुलना में हाई प्रोफाइल की जॉब आफर होती है। पर हमेशा ऐसा जरूरी नही।

एमबीए की फीस PGDM की तुलना में कम होती है।

MBA और PGDM में सब्जेक्ट में भी अंतर होता है।

MBA के अंदर मैनेजमेंट सेक्टर की डेप्थ नॉलेज दी जाती है।

PGDM के बाद तुरंत जॉब कैसे मिल सकती है?

अगर आप चाहते हैं कि PGDM करने के तुरंत बाद ही आपको जॉब मिल जाये तो सबसे जरूरी है कि आप इंडिया के बेस्ट कॉलेज से इसकव करें। जिससे कि आपका कैंपस प्लेसमेंट भी हो सकता है।

दूसरा ये है कि PGDM करने के बाद जॉब आप इंटर्नशिप करने जाएं तो आप इंटर्नशिप के दौरान अच्छा परफॉर्म करें। ज्यादा से ज्यादा सीखने पर ध्यान दें। इससे हो सकता है कि आपको वंही पर जॉब आफर हो सकती हैं।

अगर इंटर्नशिप के दौरान जॉब नही भी आफर होती है, तो आपने मेहमत से इंडस्ट्री की बारीकियों को सीख है, जिससे आपको ये मालूम ही गया कि इस इंडस्ट्री में कैसे काम होता है। जब आपको काम आ गया तो अब आप कंही भी आसानी से जॉब पा सकते हैं।

पीजीडीएम किसको करना चाहिए?

जो कैंडिडेट प्रबंधन में अपना करियर बनाना चाहते हैं, वे पीजीडीएम कोर्स कर सकते हैं।

यह कोर्स उन उम्मीदवार के लिए उच्च वेतन का वादा करता है जो टीमों का नेतृत्व करने की क्षमता रखते हैं और उनका प्रबंधन कर सकते हैं। उच्च नेतृत्व की क्षमता वाले व्यक्तियों को पीजीडीएम कोर्स में करना चाहिए

चूंकि पीजीडीएम सभी स्ट्रीम के छात्र कर सकते हैं।, यह छात्रों को अपना करियर किसी मैनेजमेंट के फील्ड में स्थानांतरित करने का एक शानदार अवसर प्रदान करता है जिसमें उनकी रुचि हो।

इसको कोई भी छात्र या कामकाजी पेशेवर पीजीडीएम ऑनलाइन और पीजीडीएम दूरस्थ शिक्षा या फुलटाइम में कर सकता है।

मैनेजमेंट में कार्य अनुभव वाले पेशेवरों के पास उचाईयों तक चढ़ने का अवसर प्रदन करता है। जो लोग पहले से ही मैनेजमेंट के फील्ड में जॉब कर रहे हैं तो वे लोग ऑनलाइन या डिस्टेन्स मोड से PGDM कर सकते हैं।

पीजीडीएम कब करना चाहिए?

PGDM पाठ्यक्रम को मैनेजमेंट की फील्ड में कैरियर बनाने के लिए और व्यावहारिक दृष्टिकोण प्रदान करके मैनेजमेंट उद्योग की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए किया जाता है। PGDM कोर्स करने का सही समय व्यक्ति पर निर्भर करता है, कि वो कम इस कोर्स को करना चाहते हैं।

कुछ लोग PGDM कोर्स को ग्रेजुएशन के तुरंत बाद ही करना पसन्द करते है और वंही कुछ लोग इस फील्ड में कुछ साल नौकरी करने के बाद में अनुभव हासिल करके अपना पद और सैलरी को बढ़ाने के लिए करते हैं।

पीजीडीएम पाठ्यक्रमों की कोर्स हाई डिमांडिंग कोर्स है। लेकिन इसकी फीस काफी ज्यादा होती है। इसलिए पहले सुनिश्चित करें कि आप इसकी मोटी फ़ीस वहन कर सकते हैं या नही। ऐसा न हो कि एडमिशन लेने के बाद बीच मे ही छोड़ना पड़ जाये।

PGDM में एडमिशन लेने से पहले छात्रों को इस बात का मूल्यांकन करना चाहिए कि पीजीडीएम पाठ्यक्रम उनके करियर में क्या जोड़ेगा। क्या वे कोर्स करने के बाद इस फील्ड में अपने आपको समायेजित कर पाएंगे या नही।

PGDM Course क्यों करना चाहिए?

PGDM उन छात्रों के लिए एक बहुत ही हाई डिमांडिंग कोर्स है जो प्रबंधन के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं। लगातार बदलती दुनिया के साथ, संगठनों, संस्थानों, कंपनियों आदि की आवश्यकताएं भी बदल रही हैं। दुनिया भर में प्रबंधकों, नेताओं, कार्यात्मक प्रमुखों और विशिष्ट कार्यकारी अधिकारियों की भारी मांग है। इसलिए इस कोर्स की लोकप्रियता आये दिन बढ़ रही है।

PGDM कोर्स को किसी भी स्ट्रीम के छात्रों के करियर को आकार देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री रखने वाले छात्र अपने कैरियर विकास के लिए पीजीडीएम पाठ्यक्रम कर सकते हैं।

पीजीडीएम कोर्स को उद्योगों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रबंधन, लेखा, अर्थशास्त्र, संचार, कंप्यूटर एप्लिकेशन आदि विषय के साथ एक अंतःविषय पाठ्यक्रम है। पीजीडीएम कोर्स छात्रों को केवल एक विषय में कुशल होने के बजाय मैनेजमेंट फील्ड का व्यापक ज्ञान प्रदान करता है।

देश और विदेश में क्वालिटी मैनेजर्स की मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। पीजीडीएम पाठ्यक्रम छात्रों को उद्योगों और बाजारों की वर्तमान आवश्यकता के साथ खुद को इस फील्ड में स्थापित करने में मदद करता है।

इस फील्ड में सैलरी अन्य फील्ड की तुलना में काफी हाई होती है। अगर आप मैनेजमेंट के एक्सपर्ट हैं, तो आप करोड़ों रुपए का पैकेज हासिल कर सकते हैं।

पीजीडीएम पाठ्यक्रम

PGDM पाठ्यक्रम को 4 सेमेस्टर में विभाजित किया गया है। यह पाठ्यक्रम उद्योग मानकों और मानदंडों के अनुसार डिजाइन किया गया है जो छात्र को मैनेजमेंट के फील्ड में बेहतरीन नौकरी के लिए तैयार होने और उचित प्लेसमेंट प्राप्त करने में मदद करता है। पहले सेमेस्टर और दूसरे सेमेस्टर ज्यादातर थ्योरी और कोर विषयों से संबंधित है। छात्रों को इस फील्ड की चुनौतियों और आवश्यकताओं के बारे में प्रैक्टिकल नॉलेज के लिए पाठ्यक्रम के दौरान इंटर्नशिप अनिवार्य है।

PGDM Admission Process (पीजीडीएम प्रवेश प्रक्रिया)

पीजीडीएम में प्रवेश राष्ट्रीय निकायों, संस्थानों या संस्थानों के समूह द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षाओं के आधार पर होता है। हालांकि कुछ प्राइवेट कॉलेज डायरेक्ट भी एडमिशन दे देते हैं। प्रवेश परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद, उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा, समूह चर्चा और व्यक्तिगत साक्षात्कार जैसे आगे के प्रोसेस के लिए बुलाया जाता है। इसके बाद मेरिट के आधार पर प्रवेश मिलता है।

पीजीडीएम कोर्स प्रवेश 2022

पीजीडीएम पाठ्यक्रमों के लिए पात्रता मानदंड की बात करें तो किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 50% अंकों से स्नातक किसी भी संकाय से होना जरूरी है।

पीजीडीएम में प्रवेश परीक्षा: कैट, मैट, एक्सएटी, जीमैट, स्नैप, सीएमएटी, एटीएमए के जरिये प्रवेश मिलेगा।

शिक्षाविदों के की माने तो उम्मीदवारों को सही बी-स्कूल का चयन करना चाहिए।

Best PGDM College in India

सभी आईटी कॉलेजेस

सभी आईआईएम कॉलेजेस

दिल्ली यूनिवर्सिटी

कलकत्ता यूनिवर्सिटी

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी

जामिया मिलिया इस्लामिया

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी

यूनिवर्सिटी ऑफ मुंबई

गुरुगोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी दिल्ली

XLRI जमशेदपुर

लॉयला इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन चेन्नई, आदि

उम्मीद है कि PGDM Course Details in Hindi ये आर्टिकल आपकों पसन्द आया होगा, क्योंकि इसमे मैंने PGDM kya hai और इसको कैसे करें। इसमे कैरियर के किया अवसर हैं, इन सभी के बारे में डिटेल में जानकारी दी है, जोकीं आपके लिए यूजफुल साबित होगा।

Leave a Comment