BPED kya hai और कैसे करें

BPED kya hai- आज की इस पोस्ट में हम बीपीएड कोर्स के बारे में बताएंगे, कि BPED kya hota hai। इसमे कैरियर कैसे बनाये। इस कोर्स को कंहा से करें? इसमे कैरियर के क्या ऑप्शन है और इसमे कैरियर स्कोप क्या है। इन सभी के बारे में इस लेख में डिटेल में जानकारी मिलेगी। इसके अलावा यंहा पर हम आपको ये भी कि आप BPED में कैसे सक्सेजफुल कैरियर बना सकेंगे। यह आपके लिए कैसे फायदेमंद हो सकता है? चलिये BPEd Course details in hindi इसके बारे में जान लेते हैं।

बीपीएड एजुकेशन सेक्टर का काफी ग्रोइंग कैरियर कैरियर ऑप्शन है। उन लोगों के किये ये सेक्टर काफी अच्छा है, जिनको एजुकेशन और साथ ही फिटनेस में इंटरेस्ट है। इसमे जॉब के भी काफी अच्छे चांस होते हैं। चूंकि ये एजुकेशन फील्ड से जुड़ा क्षेत्र होता है, तो इसमे कैरियर स्कोप भी काफी अच्छा है। पहले हम आपको BPEd kya hai इसके बारे में बताएंगे। इसके बाद इससे जुड़ी अन्य जानकारी देंगे।

BPED kya hai?

बीपीएड एक अंडग्रेजुएट कोर्स होता है। इसकी फुल फॉर्म बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन होता है। इसकी ड्यूरेशन 3 से 4 साल होती। इस कोर्स में शारीरिक शिक्षा और खेलों के बारे में पढ़ाया जाता है।

इसके साथ ही शारीरिक, मानसिक स्वास्थ्य, प्राणयाम आदि स्वास्थ्य संबंधी सब्जेक्टस के बारे में पढ़ते हैं। यह कोर्स मुख्य रूप से शारिरिक शिक्षक और खेल शिक्षक बनने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जिन लोगों का सपना Soprts Coach, कमेंटेटर, स्पोर्ट जर्नलिस्ट या जिम ट्रेनर या फिर शारीरिक शिक्षक बनने का है तो उनके लिए यह कोर्स काफी अच्छा है। चलिये अब बात कर लेते हैं कि BPED Course करने के लिए कितनी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन होनी चाहिए।

Educational Qualification For BPED Course

बीपीएड कोर्स को दो तरह से किया जा सकता है। एक तो आप 12th ke baad Me BPED Course कर सकते हैं। दूसरा ये है कि आप ग्रेजुएशन के बाद भी इसको कर सकते हैं। अगर आप इंटरमीडिएट के बाद इसको करना चाहते हैं तो कम से कम 12वीं में 45 से 50 प्रतिशत अंक होने चाहिए। इसके बाद 3 से 4 साल का यह कोर्स होता है।

यूनिवर्सिटी टू यूनिवर्सिटी इसकी अवधि कम या ज्यादा हो सकती है। कुछ यूनिवर्सिटी में ये कोर्स 3 साल का होगा और कुछ में 4 साल का भी हो सकता है। फिलहाल मान्यता को लेकर टेंशन न लें, दिनों ही बैचलर डिग्री हैं और समान मान्यता होती है। अगर कोई ग्रेजुएशन के बाद BPED करता है तो उसकी ड्यूरेशन 1 से 2 साल होती है। इसकी भी अवधि भिन्न- भिन्न यूनिवर्सिटी में भिन्न- भिन्न हो सकती है।

ग्रेजुएशन या 12वीं होने के साथ ही कैंडिडेट ने 12th में फिजिकल एजुकेशन सब्जेक्ट पढा होना चाहिए या फिर खेल वैगरह में भाग लिए हों और उनका सर्टिफिकेट भी होना चाहिए। तो ये बीपीएड कोर्स करने के लिए बेसिक क्वालिफिकेशन हैं। चलिये अब बात कर लेते हैं कि इसमे एडमिशन कैसे मिलेगा।

How Get Admission in BPED Course

इस कोर्स में मुख्यतः प्रवेश परीक्षा के जरिये दाखिल मिलता है। गवर्नमेंट यूनिवर्सिटी और कॉलेज में तो बिना प्रवेश परीक्षा के एडमिशन होना मुश्किल ही है। बाकी प्राइवेट यूनिवर्सिटीज तो मेरिट के आधार पर या डायरेक्ट भी एडमिशन दे देते हैं।

BPED Course Fees

इसकी फीस 10 हजार से लेकर 1 लाख के बीच मे होती है। भिन्न- भिन्न कॉलेज में फीस का क्राइटेरिया अलग-अलग होता है। कंही फीस कम तो कंही काफी ज्यादा होती है। फिलहाल जितने भी गवर्नमेंट कॉलेज होते हैं तो वंहा पर फीस 10 से 15 हजार ही प्रतिबर्ष होती है। प्राइवेट कॉलेज 50 हजार से 1 लाख के बीच मे फीस लेते हैं।

BPED Course कंहा से करें

सबसे पहली बात तो ये है कि आपकी कोशिश ये होनी चाहिए कि सेंट्रल यूनिवर्सिटीज से आप इसको करें। अगर सेंट्रल यूनिवर्सिटी में एडमिशन नही हो सकता है तो स्टेट लेवल की गवर्नमेंट यूनिवर्सिटी से करें। मैं इसलिए बोल रहा हूँ कि आप पहले तो सेंट्रल यूनिवर्सिटी में एडमिशन का प्रयाश करें और इसके बाद स्टेट यूनिवर्सिटी में, क्योंकि ये यूनिवर्सिटी बहुत ही रेपुटेटेड होती है।

सेंट्रल यूनिवर्सिटीज से कोर्स करने का रुतबा ही अलग होता है। जिसके बाद जॉब मिलने में भी थोड़ा आसानी हो सकती है। सेंट्रल या स्टेट यूनिवर्सिटी से कोर्स करने का फायदा ये भी है कि आप बहुत ही कम फीस में मात्र 10 से 15 हजार प्रतिबर्ष मे ही इसको कर सकते हैं। लेकिन एडमिशन के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करनी पड़ेगी।

BPED Me Career Scope

इस फील्ड में कैरियर स्कोप को लेकर घबराने की जरूरत नही है। निसंदेह ही इसमे कैरियर स्कोप बेहतरीन है। बीपीएड की खासियत यही है कि इस कोर्स को करने के बाद में जॉब के तमामं द्वार खुल जाते हैं। जिनमें से आपको कंही न कंही जॉब तो जरूर ही मिल जाएगी। क्योंकि इसमे इतने ज्यादा कैरियर के विकल्प ही होते हैं।

जिन लोगों ने बी.पी.एड कोर्स किया है, वे लोग खेल के और फिजिकल ट्रेनिंग के के क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की नौकरी कर सकते हैं। आजकल तो स्कूल और कॉलेजेस की भरमार सी है, जंहा पर फिजिकल एजुकेटर की मांग रहती है। बड़े- बड़े शैक्षिक संस्थानों में एक नही कई फिजिकल इंस्ट्रक्टर की नियुक्ति की जाती है। जंहा पर आपके लिए रोजगार के काफी अच्छे अवसर हो सकते हैं।

इतना ही नही बड़ी- बड़ी यूनिवर्सिटीज में और स्पोर्ट्स क्लब में आप स्पोर्ट्स कोच, हेल्थ क्लब में फिटनेस ट्रेनर, जिम सेंटर में जिम ट्रेनर के तौर पर भी कैरियर बना सकते हैं। अगर आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी है और स्पोर्ट्स का अच्छा नॉलेज है तो आप स्पोर्ट कमेंटेटर जैसेकि क्रिकेट कमेंट्री या अन्य खेलों की कमेंट्री भी कर सकता हैं। जंहा पर आपको एक-एक दिन में कई हजार रुपये मिलते हैं।

इतना ही नही BPED Course के कैंडिडेट स्पोर्ट जर्नलिस्ट भी बन सकते हैं। आजकल तो टीवी चैनल्स की कमी नही है। अगर आपको स्पोर्ट्स की अच्छी समझ है और साथ ही कम्युनिकेशन स्किल स्ट्रांग है, कैमरा फ्रेंडली हैं तो आप टीवी चैनल्स में स्पोर्ट जर्नलिस्ट के तौर पर कैरियर बना सकते हैं।

अगर आपको कैमरे से डर लगता है और बाकी सभी स्किल्स मीडिया में कैरियर बनाने के लायक हैं तो आप प्रिंट मीडिया यानिकि किसी भी न्यूज़पेपर में स्पोर्ट जर्नलिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं। इसके लिए दो स्किल्स तो बहुत ही जरूरी है। पहला तो खेलों का नॉलेज और दूसरा राइटिंग स्किल। तभी आप प्रिंट मीडिया में स्पोर्ट जर्नलिज्म के फील्ड में कैरियर बना सकेंगे।

BPED Course करने के बाद किन- किन पदों पर जॉब कर सकते हैं?

स्कूल और कॉलेज में शारीरिक शिक्षा अध्यापक

जिम सेंटर्स में जिम ट्रेनर

विभिन्न खेलों के अंपायर/रेफरी

स्पोर्ट्स गुड्स मैन्युफैक्चरिंग के फील्ड में

स्पोर्ट मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव

स्पोर्ट कोच

टीवी चैंनल में स्पोर्ट जर्नलिस्ट

न्यूज़पेपर में स्पोर्ट जर्नलिस्ट

डिजिटल मीडिया में स्पोर्ट जर्नलिस्ट

टीकाकार

खेल प्रशासक

फिटनेस प्रभारी

स्पोर्ट फ़ोटो जर्नलिस्ट

योग प्रशिक्षक

BPED Syllabus First Year

अंग्रेजी और संचार कौशल

व्यायाम

इतिहास और संस्कृति

कसरत

शारीरिक शिक्षा का इतिहास

फ़ुटबॉल

शैक्षिक मनोविज्ञान, मार्गदर्शन और परामर्श

कुश्ती

एप्लाइड एनाटॉमी और फिजियोलॉजी

मुक्केबाज़ी

वेट ट्रेनिंग, वेट लिफ्टिंग, पावर लिफ्टिंग और बेस्ट फिजिक

तैराकी

जूडो

प्रकाश उपकरण गतिविधि/

केलिस्थेनिक्स

BPED Syllabus Second Year

अंग्रेजी और संचार कौशल – 2

व्यायाम

शारीरिक शिक्षा की नींव

बैडमिंटन

शैक्षिक पद्धति

खो-खो

खेल मनोविज्ञान

कबड्डी

मनोरंजन, शिविर, खेल और नेतृत्व प्रशिक्षण

टेबल टेनिस

शारीरिक शिक्षा में शिक्षण पद्धति

वालीबाल

व्यायाम की फिजियोलॉजी

हेन्डबोल

पढ़ाने का अभ्यास

सॉफ्टबॉल

BPED Syllabus Third Year

अंग्रेजी और संचार कौशल – 3

व्यायाम

काइन्सियोलॉजी और बायो-मैकेनिक्स

योग

खेल प्रबंधन

टेनिस

मापन और मूल्यांकन

क्रिकेट

स्वास्थ्य शिक्षा

हॉकी

शारीरिक शिक्षा में एप्लाइड कंप्यूटर शिक्षा और सांख्यिकी

खेल का समाजशास्त्र

BPED के बाद क्या करें?

बहुत से कैंडिडेट पूंछते हैं, कि बीपीएड के बाद उनको क्या करना चाहिए, तो मैं आपको बता दूं, इसके बाद आपको जॉब करनी चाहिए। अगर इस कोर्स के तुरंत बाद आप जॉब नही भी करना चाहते हैं, तो इसके MPED भी कर सकते हैं, यह एक मास्टर डिग्री प्रोग्राम होता है।एमपीएड के बाद नेट और पीएचडी भी कर सकते हैं। जिसके बाद असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर भी कैरियर बना सकते हैं।

BPEd में सैलरी

इस कोर्स के बाद में अगर आप प्राइवेट जॉब करते हैं, तो आपको शुरुआती समय मे 12 से 15 हजार रुपये प्रतिमाह मिलते हैं। अनुभव होने में सैलरी काफी अच्छी हो जाती है। अगर सरकारी जॉब आप करते हैं, तो सैलरी सरकार के नियमानुसार होती है, जोकीं काफी आकर्षक होती हैं। वंही अगर आप अच्छे स्पोर्ट जर्नलिस्ट या कमेंटेटर बन जाते हैं तो लाखों रुपए महीने में कमा सकते हैं। चलिये अब जान लेते हैं कि बीपीएड के लिए एंट्रेंस एग्जाम कौन से होते हैं।

BPED Entrance Exam

हर सेंट्रल और स्टेट गवर्नमेंट यूनिवर्सिटी अपने यंहा पर एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करती हैं, जिसके जरिये BPED Course में एडमिशन मिलता है। जैसेकि अगर आपको बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी से बीपीएड करना है तो आपको बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी का एग्जाम देना होगा। इस तरह से आपको जिस भी यूनिवर्सिटी से बीपीएड करना है, वंहा के एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से ही आपको प्रवेश मिलेगा।

BPED 12th के बाद करना सही है या ग्रेजुएशन के बाद?

अगर आप 12वीं ही अभी तक किये हैं और आप BPED करना चाहते हैं तो आपको 12वीं के तुरंत बाद ही कोर्स करना ज्यादा बेहतर रहेगा। इससे आपका समय बर्बाद नही होगा। अगर आप ग्रेजुएशन कर चुके हैं तो इसके बाद भी आप BPED Course कर सकते हैं।

कुछ लोगों का सोचना ये भी होगा कि 12वीं के बाद बीपीएड की मान्यता ज्यादा होती है या ग्रेजुएशन के बाद की, तो मैं आपको बता दूं, दोनो की समान मान्यता होती है, कोई अंतर नही।

BPEd के लिए कॉलेज

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी

महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी

दिल्ली यूनिवर्सिटी

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी

आंध्र यूनिवर्सिटी

क्राइस्ट यूनिवर्सिटी

गुरुनानकदेव यूनिवर्सिटी

महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी

एमजेएपी रुहेलखंड यूनिवर्सिटी

पंजाब यूनिवर्सिटी

गुरुकुल कांगिणी यूनिवर्सिटी

कालीकट यूनिवर्सिटी

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी

चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी

गुरुघासीदास यूनिवर्सिटी

छत्रपति शाहूजी महाराज यूनिवर्सिटी

बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी

लखनऊ यूनिवर्सिटी

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी

मगध यूनिवर्सिटी

मुम्बई यूनिवर्सिटी

अन्नामलाई यूनिवर्सिटी

पांडिचेरी यूनिवर्सिटी

कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी

हैदराबाद यूनिवर्सिटी

उम्मीद है कि BPED kya hai और इसमे Career kaise बनाएं ये पोस्ट आपको पसन्द आयी होगी, क्योंकि इस पोस्ट में मैने BPED कोर्स की डिटेल में जानकारी प्रदान की है। अगर फिर भी BPED Course को लेकर आपके कोई भी सवाल हैं तो आप कमेंट के माध्यम से पूँछ सकते हैं। Careerkaisebane.in पर विजिट करने के लिए आपका धन्यवाद। हमारे इस ब्लॉग में आपका फिर से स्वागत है।

Tags: BPED kya hai, बीपीएड क्या है, BPED kaise kare, BPED Course details in hindi, BPED in hindi, BPED kaise kare, BPED kaise kare, BPED ke baad job kaise kare, BPED all details in hindi,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *