Civil Engineer kaise bane। Career in Civil Engineering hindi

Career in Civil Engineering- क्या आप सिविल इंजीनियरिंग में कैरियर बनाने की सोच रहे हैं। क्या आप Civil Engineer kaise bane इसके बारे में जानकारी चाहते हैं। अगर आप सिविल इंजीनियरिंग में कैरियर बनाना चाहते हैं, तो इस पोस्ट में हम आपको डिटेल में बताएंगे कि  Civil Engineering me career kaise banaye। इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको सिविल इंजीनियरिंग कैरियर और Civil engineering course की सारी जानकारी मिल जाएगी।
इस आर्टिकल में मैंने Civil engineering course fees और बेस्ट सिविल इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट इंडिया में कौन से हैं। सिविल इंजीनियरिंग में वर्तमान में कैरियर स्कोप क्या है। इसमे Job के क्या अवसर हैं। सिविल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए आवश्यक योग्यता क्या होनीं चाहिए। इन सभी के बारे में हम आपको डिटेल में बताएंगे (All information about career in civil engineering and job for freshers in civil engineering)


Civil Engineer kaise bane


आज के विकसित माहौल में देश काफी प्रगति कर रहा है। बड़े शहरों के साथ ही छोटे शहरों में भी बड़ी- बडी बिल्डिंग, इमारत, अच्छी सड़के आदि विकास बहुत तेजी से हो रहा है। इसका मुख्य कारण रियल इस्टेट कारोबार है। इनमें से एक मुख्य क्षेत्र Civil Engineering हैं। अगर आप भी इस विकास गाथा में शामिल होना चाहते हैं, तो Civil engineering course के माध्यम से आप इस सेक्टर में प्रवेश कर सकते हैं। civil engineer बनने के लिए आप सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक या डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग कर सकते हैं। इसके बाद इसी फील्ड में इंटर्नशिप कर इस सेक्टर में आपके लिए जॉब के द्वार खुल जाएंगे। 
सिविल इंजीनियरिंग बहुत व्यापक क्षेत्र है। इसमे आप अपनी इच्छा के अनुसार क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं। जिसमे आप हाइड्रॉलिक इंजी, स्ट्रक्चरल इंजी, मेटेरियल इंजी, अर्बन इंजी, अर्थक्वेक इंजी, एनवायर्नमेंटल इंजी, ट्रांसपोर्टेशन इंजी, जियो टेक्निकल इंजीनियरिंग आदि है। अब तो विदेशी कंपनी भी आने लगी है, जिससे और भी ज्यादा जॉब की संभावना पैदा हो गई हैं।


Career Scope in Civil Engineering


वर्तमान समय मे सिविल इंजीनियरिंग में कैरियर की अपार संभावनाएं हैं। अगर आप civil engineering course करते हैं, तो बेसक आपके लिए यंहा पर अनेक रोजगार के मौके हैं। आज के समय मे सिविल इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स का  काफी पसंदीदा कैरियर विकल्प है। चुकी सिविल इंजीनियरिंग का फील्ड डायरेक्ट कंस्ट्रक्शन और रियल इस्टेट से जुड़ा है। इसलिए इसमे जॉब की कमी नही है। बड़ी- बड़ी बुलडिंग, पल निर्माण, सड़क, हाईवे, ड्रम सीवेज सिस्टम, एयरपोर्ट आदि की रूपरेखा civil engineer ही तैयार करते हैं। इसलिए हम कह सकते हैं, कि सिविल इंजीनियरिंग वर्तमान समय मे आकर्षक कैरियर ऑप्शन हैं। यंहा पर आप अनेक पदों पर अपनी सेवाएं दे सकते हैं। 


Civil Engineering kya hai


क्या है सिविल इंजीनियरिंग? जॉब कोई रियल स्टेट, और कंस्ट्रक्शन से संबंधित कार्य- योजना बनाई जाती है, तो सबसे पहले उसकी प्लानिंग, डिजाइनिंग, संरचनात्मक कार्यों से लेकर रिसर्च एंड सलूशन आदि महत्वपूर्ण कार्य किये जाते हैं। जो व्यक्ति इन कार्यों को करते हैं, वे civil engineering की श्रेणी में आते है और इनको सिविल engineer कहते है। जिसमे प्रोफेशनल सिविल इंजीनियर को किसी भी प्रोजेक्ट पर काम करना पड़ता है। सभी की अलग-अलग जिम्मेदारी होती है। किसी भी प्रोजेक्ट की लागत, वर्कर, क्लाइंट्स और कांट्रेक्टरों से संपर्क रखना, कार्य की सूची आदि कार्य सिविल इंजीनियरिंग के अंतर्गत आते हैं।


Career Option in Civil Engineering


सिविल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में गवर्नमेंट और प्राइवेट दोनो सेक्टर में जॉब के अवसर मिलते हैं। निजी सेक्टर में रिसर्च, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, कंस्ट्रक्शन, रियल स्टेट आदि में जॉब के भरपूर अवसर हैं। इसमे जॉब की ज्यादा संभावनाएं रियल स्टेट में आई क्रांति है। आजकल हर जगह बिल्डिंग, शॉपिंग मॉल, रेस्टोरेंट, हॉस्पिटल, ब्रिज, हाईवे, आदि निर्माण कार्य तेजी से हो रहा है। इसमे आप मेंटिनेंस से लेकर कंस्ट्रक्शन, कन्सल्टेंसी फर्म, हाउसिंग सोसायटी, क्वालिटी टेस्टिंग लेबोरेटरी आदि में काम कर सकते हैं। इसके अलावा प्राइवेट कंस्ट्रक्शन कंपनी, मिल्रिटी, इंजीनियरिंग सर्विसेज, अनुभव होने के बाद खुद की भी कंसल्टेंसी सर्विस दे सकते हैं।civil engineering में आप निम्न पदों पर कार्य कर सकते हैं। सिविल इंजीनियर, असिस्टेंट इंजीनियर,कंस्ट्रक्शन प्लांट इंजीनियर,प्लानिंग इंजीनियर, टेक्निशियन,एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, साइट/प्रोजेक्ट इंजीनियर, सुपरवाइजर

Qualification for Civil Engineering course


सिविल इंजीनियर बनने की योग्यता क्या होती है? सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपको civil engineering में बीटेक, बीई, डिप्लोमा कोर्स करना होगा। बीटेक कोर्स के लिए आप 12वीं पीसीएम सब्जेक्ट से पास हों। इसके साथ ही 10वीं  या 12वीं के बाद पॉलीटेक्निक डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग भी कर सकते हैं। एमटेक के लिए बीटेक होना जरूरी है। बीटेक कोर्स 4 बर्ष और डिप्लोमा कोर्स 3 बर्ष का होता है।

Civil Engineering Course


बीटेक इन सिविल इंजीनियरिंग
बीई इन सिविल इंजीनियरिंग
एमटेक इन सिविल इंजीनियरिंग
डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग

अगर आप गवर्नमेंट कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं, तो आप पॉलीटेक्निक के माध्यम से डिप्लोमा में प्रवेश ले सकते हैं। इसके बाद जेईई के माध्यम से बीटेक या बीई में प्रवेश मिलता है। कुछ प्राइवेट कॉलेज में प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही एडमिशन मिलता है, वंही ज्यादातर प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन डायरेक्ट हो जाता है। किसी भी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन तभी लें, जब उसका कैपम्स प्लेसमेंट, टीचिंग फकलिटी गुणवत्तापूर्ण, लैब प्रॉपर हों। इन कोर्स की फीस 50 से 1 लाख प्रतिबर्ष होती है। पॉलीटेक्निक डिप्लोमा कोर्स की फीस काफी कम होती है। 
Civil Engineer का काम काफी चुनौतीपूर्ण होता है। इसके लिए आपके अंदर क्रिएटिविटी, थिंकिंग पावर, नई चुनौतियों का सामना करना, धैर्य, जिम्मेदारी का अहसाह आदि स्किल्स होना चाहिए। इसके साथ ही civil engineer शार्प माइंड, एनालिटिकल थिंकिंग, प्रैक्टिकली, टीम वर्क की भावना होना चाहिए।
इन सभी के अलावा प्रेसर में काम करने की क्षमता, प्रोब्लम सॉल्विंग, कम्प्यूटर स्किल, कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर के प्रयोग, ड्राइंग, बिल्डिंग और शुरक्षा के उपाय, प्लानिंग, सरकरीं संगठनों से सही तालमेल, कम्युनिकेशन स्किल आदि की आपके अंदर स्किल्स होनीं चाहिए।


Civil Engineering College


इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रुड़की
इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, आहमदबाद
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मुम्बई
बिड़ला इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटीएस), रांची
दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली 
इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ साइंस, बेंग्लुरू
नेशनल इंस्टीटय़ूट ऑफ कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट एंड रिसर्च, नई दिल्ली
वीरमाता जीजाबाई टेक्निकल इंस्टीट्यूट, मुम्बई
सरदार पटेल कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, मुम्बई   नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, श्रीनगर
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी
मालवीय टेक्निकल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, जयपुर
ओस्मानिया यूनिवर्सिटी
इंजीनियरिंग कॉलेज ऑफ अजमेर
ग्रीनहिल्स इंजीनियर कॉलेज, हिमाचल प्रदेश
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, लखनऊ
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, दिल्ली
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, मुम्बई
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, बरेली
कॉम्बिटूर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, तमिलनाडु
तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी, मुरादाबाद

Also Read


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Civil Engineer kaise bane। Career in Civil Engineering hindi

Career in Civil Engineering- क्या आप सिविल इंजीनियरिंग में कैरियर बनाने की सोच रहे हैं। क्या आप Civil Engineer kaise bane इसके बारे में जानकारी चाहते हैं। अगर आप सिविल इंजीनियरिंग में कैरियर बनाना चाहते हैं, तो इस पोस्ट में हम आपको डिटेल में बताएंगे कि  Civil Engineering me career kaise banaye। इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको सिविल इंजीनियरिंग कैरियर और Civil engineering course की सारी जानकारी मिल जाएगी।
इस आर्टिकल में मैंने Civil engineering course fees और बेस्ट सिविल इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट इंडिया में कौन से हैं। सिविल इंजीनियरिंग में वर्तमान में कैरियर स्कोप क्या है। इसमे Job के क्या अवसर हैं। सिविल इंजीनियरिंग कोर्स के लिए आवश्यक योग्यता क्या होनीं चाहिए। इन सभी के बारे में हम आपको डिटेल में बताएंगे (All information about career in civil engineering and job for freshers in civil engineering)


Civil Engineer kaise bane


आज के विकसित माहौल में देश काफी प्रगति कर रहा है। बड़े शहरों के साथ ही छोटे शहरों में भी बड़ी- बडी बिल्डिंग, इमारत, अच्छी सड़के आदि विकास बहुत तेजी से हो रहा है। इसका मुख्य कारण रियल इस्टेट कारोबार है। इनमें से एक मुख्य क्षेत्र Civil Engineering हैं। अगर आप भी इस विकास गाथा में शामिल होना चाहते हैं, तो Civil engineering course के माध्यम से आप इस सेक्टर में प्रवेश कर सकते हैं। civil engineer बनने के लिए आप सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक या डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग कर सकते हैं। इसके बाद इसी फील्ड में इंटर्नशिप कर इस सेक्टर में आपके लिए जॉब के द्वार खुल जाएंगे। 
सिविल इंजीनियरिंग बहुत व्यापक क्षेत्र है। इसमे आप अपनी इच्छा के अनुसार क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं। जिसमे आप हाइड्रॉलिक इंजी, स्ट्रक्चरल इंजी, मेटेरियल इंजी, अर्बन इंजी, अर्थक्वेक इंजी, एनवायर्नमेंटल इंजी, ट्रांसपोर्टेशन इंजी, जियो टेक्निकल इंजीनियरिंग आदि है। अब तो विदेशी कंपनी भी आने लगी है, जिससे और भी ज्यादा जॉब की संभावना पैदा हो गई हैं।


Career Scope in Civil Engineering


वर्तमान समय मे सिविल इंजीनियरिंग में कैरियर की अपार संभावनाएं हैं। अगर आप civil engineering course करते हैं, तो बेसक आपके लिए यंहा पर अनेक रोजगार के मौके हैं। आज के समय मे सिविल इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स का  काफी पसंदीदा कैरियर विकल्प है। चुकी सिविल इंजीनियरिंग का फील्ड डायरेक्ट कंस्ट्रक्शन और रियल इस्टेट से जुड़ा है। इसलिए इसमे जॉब की कमी नही है। बड़ी- बड़ी बुलडिंग, पल निर्माण, सड़क, हाईवे, ड्रम सीवेज सिस्टम, एयरपोर्ट आदि की रूपरेखा civil engineer ही तैयार करते हैं। इसलिए हम कह सकते हैं, कि सिविल इंजीनियरिंग वर्तमान समय मे आकर्षक कैरियर ऑप्शन हैं। यंहा पर आप अनेक पदों पर अपनी सेवाएं दे सकते हैं। 


Civil Engineering kya hai


क्या है सिविल इंजीनियरिंग? जॉब कोई रियल स्टेट, और कंस्ट्रक्शन से संबंधित कार्य- योजना बनाई जाती है, तो सबसे पहले उसकी प्लानिंग, डिजाइनिंग, संरचनात्मक कार्यों से लेकर रिसर्च एंड सलूशन आदि महत्वपूर्ण कार्य किये जाते हैं। जो व्यक्ति इन कार्यों को करते हैं, वे civil engineering की श्रेणी में आते है और इनको सिविल engineer कहते है। जिसमे प्रोफेशनल सिविल इंजीनियर को किसी भी प्रोजेक्ट पर काम करना पड़ता है। सभी की अलग-अलग जिम्मेदारी होती है। किसी भी प्रोजेक्ट की लागत, वर्कर, क्लाइंट्स और कांट्रेक्टरों से संपर्क रखना, कार्य की सूची आदि कार्य सिविल इंजीनियरिंग के अंतर्गत आते हैं।


Career Option in Civil Engineering


सिविल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में गवर्नमेंट और प्राइवेट दोनो सेक्टर में जॉब के अवसर मिलते हैं। निजी सेक्टर में रिसर्च, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, कंस्ट्रक्शन, रियल स्टेट आदि में जॉब के भरपूर अवसर हैं। इसमे जॉब की ज्यादा संभावनाएं रियल स्टेट में आई क्रांति है। आजकल हर जगह बिल्डिंग, शॉपिंग मॉल, रेस्टोरेंट, हॉस्पिटल, ब्रिज, हाईवे, आदि निर्माण कार्य तेजी से हो रहा है। इसमे आप मेंटिनेंस से लेकर कंस्ट्रक्शन, कन्सल्टेंसी फर्म, हाउसिंग सोसायटी, क्वालिटी टेस्टिंग लेबोरेटरी आदि में काम कर सकते हैं। इसके अलावा प्राइवेट कंस्ट्रक्शन कंपनी, मिल्रिटी, इंजीनियरिंग सर्विसेज, अनुभव होने के बाद खुद की भी कंसल्टेंसी सर्विस दे सकते हैं।civil engineering में आप निम्न पदों पर कार्य कर सकते हैं। सिविल इंजीनियर, असिस्टेंट इंजीनियर,कंस्ट्रक्शन प्लांट इंजीनियर,प्लानिंग इंजीनियर, टेक्निशियन,एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, साइट/प्रोजेक्ट इंजीनियर, सुपरवाइजर

Qualification for Civil Engineering course


सिविल इंजीनियर बनने की योग्यता क्या होती है? सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपको civil engineering में बीटेक, बीई, डिप्लोमा कोर्स करना होगा। बीटेक कोर्स के लिए आप 12वीं पीसीएम सब्जेक्ट से पास हों। इसके साथ ही 10वीं  या 12वीं के बाद पॉलीटेक्निक डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग भी कर सकते हैं। एमटेक के लिए बीटेक होना जरूरी है। बीटेक कोर्स 4 बर्ष और डिप्लोमा कोर्स 3 बर्ष का होता है।

Civil Engineering Course


बीटेक इन सिविल इंजीनियरिंग
बीई इन सिविल इंजीनियरिंग
एमटेक इन सिविल इंजीनियरिंग
डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग

अगर आप गवर्नमेंट कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं, तो आप पॉलीटेक्निक के माध्यम से डिप्लोमा में प्रवेश ले सकते हैं। इसके बाद जेईई के माध्यम से बीटेक या बीई में प्रवेश मिलता है। कुछ प्राइवेट कॉलेज में प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही एडमिशन मिलता है, वंही ज्यादातर प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन डायरेक्ट हो जाता है। किसी भी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन तभी लें, जब उसका कैपम्स प्लेसमेंट, टीचिंग फकलिटी गुणवत्तापूर्ण, लैब प्रॉपर हों। इन कोर्स की फीस 50 से 1 लाख प्रतिबर्ष होती है। पॉलीटेक्निक डिप्लोमा कोर्स की फीस काफी कम होती है। 
Civil Engineer का काम काफी चुनौतीपूर्ण होता है। इसके लिए आपके अंदर क्रिएटिविटी, थिंकिंग पावर, नई चुनौतियों का सामना करना, धैर्य, जिम्मेदारी का अहसाह आदि स्किल्स होना चाहिए। इसके साथ ही civil engineer शार्प माइंड, एनालिटिकल थिंकिंग, प्रैक्टिकली, टीम वर्क की भावना होना चाहिए।
इन सभी के अलावा प्रेसर में काम करने की क्षमता, प्रोब्लम सॉल्विंग, कम्प्यूटर स्किल, कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर के प्रयोग, ड्राइंग, बिल्डिंग और शुरक्षा के उपाय, प्लानिंग, सरकरीं संगठनों से सही तालमेल, कम्युनिकेशन स्किल आदि की आपके अंदर स्किल्स होनीं चाहिए।


Civil Engineering College


इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रुड़की
इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, आहमदबाद
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मुम्बई
बिड़ला इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटीएस), रांची
दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली 
इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ साइंस, बेंग्लुरू
नेशनल इंस्टीटय़ूट ऑफ कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट एंड रिसर्च, नई दिल्ली
वीरमाता जीजाबाई टेक्निकल इंस्टीट्यूट, मुम्बई
सरदार पटेल कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, मुम्बई   नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, श्रीनगर
चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी
मालवीय टेक्निकल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, जयपुर
ओस्मानिया यूनिवर्सिटी
इंजीनियरिंग कॉलेज ऑफ अजमेर
ग्रीनहिल्स इंजीनियर कॉलेज, हिमाचल प्रदेश
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, लखनऊ
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, दिल्ली
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, मुम्बई
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक, बरेली
कॉम्बिटूर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, तमिलनाडु
तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी, मुरादाबाद

Also Read