BAMS Me Career Kaise banaye

BAMS Me Career Kaise banaye in hindi- अगर आपका भी सपना आयुर्वदिक डॉक्टर बनने का है, तो इस आर्टिकल में आपको Ayurvredic Doctor kaise bane इसके बारे में डिटेल में जानकारी मिलेगी।

आयुर्वदिक डॉक्टर के तौर पर कैरियर बनाने के लिए आपको BAMS (Bachelor Of Ayurvredic Medicine Surgury) कोर्स करना होगा। इसके माध्यम से आप आयुष डॉक्टर या आयुर्वदिक डॉक्टर बनने का सपना पूरा कर सकते हैं। इस पोस्ट में BAMS course details In Hindi इसके बारे में आपको पूरी इन्फॉर्मेशन मिलेगी। यंहा पर हम।आपको बीएएमएस कोर्स से जुड़ी हर जानकारी देंगे। जिससे कि आप इस फील्ड में आसानी से कैरियर बना सकेंगे।

BAMS Me Career kaise banaye

अगर आप बीएमएस में कैरियर बनाना चाहते हैं या BAMS कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए 12वीं पीसीबी सब्जेक्ट से कम से कम 50% अंको से पास होना चाहिए। इसके बाद आप BAMS Course कर सकते हैं। इस कोर्स की अवधि साढ़े 5 साल होती है। जिसमे एक साल की इंटर्नशिप भी शामिल है।

What is BAMS course in hindi?

बीएमएस आयुर्वदिक चिकित्सा पध्दति का बैचलर डिग्री कोर्स होता है। इस कोर्स के बाद आप आयुर्वदिक डॉक्टर या आयुष डॉक्टर बन सकते हैं। इस कोर्स में शरीर क्रिया विज्ञान, शरीर रचना विज्ञान, विष विज्ञान, फार्माकोलॉजी, रोगों से निदान एवं बचाव, नाक, आंख, गले की चिकित्सा, चिकित्सा के सिद्धांत, फोरेंसिक चिकित्सा आदि की शिक्षा दी जाती है।

BAMS full form in hindi

बीएएमएस कोर्स की फुल फॉर्म बैचलर ऑफ आयुर्वदिक एंड मेडिसिन सर्जरी होती है। आयुर्वदिक मेडिसिन पद्धति का यह ग्रेजुएट लेवल का कोर्स होता है।

What is the qualification of BAMS in hindi?

बीएएमएस कोर्स के लिए कैंडिडेट को फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी के साथ मे 10+2 कम से कम 50% अंको से पास होना चाहिए। इसके साथ ही कैंडिडेट की उम्र कम से कम 17 बर्ष होना जरूरी होता है।

BAMS Ki fees Kitni Hai

इस कोर्स की फीस 15 हजार से लेकर 3 लाख प्रतिबर्ष के बीच होती है। ये फीस कॉलेज के द्वारा प्रदान की जाने सुविधाओं के अनुसार अलग- अलग होती है। गवर्नमेंट कॉलेज में फीस काफी कम चुकानी पड़ती है, वंही प्राइवेट कॉलेज में फीस लाखों रुपए प्रतिबर्ष चुकानी होती है। गवर्नमेंट कॉलेज में इसको फीस 15 से 50 हजार प्रतिबर्ष के बीच होती है।

BAMS fees in private College in hindi

प्राइवेट कॉलेज में तो BAMS Course की फीस 10 लाख से 15 लाख पूरे कोर्स की फीस होती है। कुछ ऐसे में भी प्राइवेट कॉलेज हैं, जोकि काफी सस्ते हैं। अगर आप ज्यादा फीस देने में सक्षम नही हैं और Ayurvredic Doctor बनना चाहते हैं तो आप इसके लिए अच्छे से Entrance Exam की तैयारी करें। जिससे कि आपको गवर्नमेंट College में Admission मिल सके, क्योंकि सरकारी कॉलेज में फीस काफी कम (Low fees, BAMS college) होती है।

Is Neet required for BAMS 2020?

बहुत से स्टूडेंट्स का ये क्वेश्चन रहता है कि क्या NEET Exam बीएएमएस कोर्स के लिए जरूरी है, तो हम आपको बता दें कि हां अगर आपने नीट एग्जाम क्वालीफाई किया है, तो ही आप BAMS Course में एडमिशन के लिए योग्य हैं।

12वीं के बाद बने ब्लड बैंक टेकनीशियन, सस्ते कोर्स में हाई डिमांडिंग करियर

नीट एग्जाम क्वालीफाई करने के बाद मेरिट के आधार पर आपकी रैंक तय की जाती है। इसी रैंक के अनुसार आपके कॉउंसिलग के माध्यम से कॉलेज का आवंटन होता है। अगर आपकी रैंक अच्छी है तो आपको Government College मिल जाता है। वंही अगर आपके कम मार्क्स हैं तो फिर आपको प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन मिल सकता है।

How can I get admission in BAMS in hindi?

बीएएमएस में एडमिशन आपको तभी मिलेगा, जब आप नीट एग्जाम क्वालीफाई कर लेंगे। इस एग्जाम को क्वालीफाई करने के लिए आपको नीट Entrance exam की मेहनत से तैयारी करनी होगी। इसके लिए आपके लिए बेहतर होगा कि आप किसी अच्छे कोचिंग संस्थान में नीट की तैयारी करें।

What is the duration of a BAMS degree course?

बीएएमएस कोर्स की ड्यूरेशन 5 साल 6 माह होती है। जिसमे कि एक साल कैंडिडेट को इंटर्नशिप किसी भी हॉस्पिटल में करनी पड़ती हक। इस प्रकार BAMS और इंटर्नशिप को मिलकर इसकी ड्यूरेशन 5 साल 6 माह होती है।

BAMS Scope in india in hindi

बीएएमएस में कैरियर स्कोप की बात करें तो इसमे बहुत ही अच्छा कैरियर स्कोप है। BAMS Scope को लेकर आपके मन मे कोई भी डाउट नही होना चाहिए । इस कोर्स के बाद आपके पास बेहतरीन Career के ऑप्शन होते हैं। BAMS करने के बाद आप प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनो सेक्टर में Job कर सकते हैं।

जिस तरह से आज के समय मे Hospital और नर्सिंग होम तथा क्लीनिक्स की संख्या बढ़ रही है। जिसकी वजह से Ayurvredic Doctor या BAMS डिग्री होल्डर की मांग भी बढ़ रही है। इस फील्ड में जॉब के लिए आपको भटकना नही पड़ता है। अगर आप जॉब नही करना चाहते हैं तो आप खुद का क्लीनिक स्टार्ट कर सकते हैं। इसके लिए आपको क्लीनिक का रजिस्ट्रेशन कराना होगा। जोकि काफी आसानी से हो जाता है।

Career Option after BAMS Degree in hindi

बीएएमएस करने के बाद कैंडिडेट के पास अनेक कैरियर के ऑप्शन होते हैं। लेकिन कोई भी इन कैरियर ऑप्शन को अपनाना नही चाहता है। इसका मुख्य कारण ये होता है कि जो भी स्टूडेंट BAMS करता है, उसका सीधा सा एक ही लक्ष्य होता है कि उसको डॉक्टर बनना है। बस लोग बीएएमएस के बाद इसी कैरियर ऑप्शन को चुनते हैं। हम आपको बता दें डॉक्टर बनने के अलावा भी BAMS के बाद अनेक कैरियर के विकल्प होते हैं। आप चाहें तो इन सेक्टर में भी जा सकते हैं, जैसेकि-

लेक्चरर

थेरेपिस्ट

आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट

साइंटिस्ट

मेडिकल सेल्स रिप्रेजेंटेटिव

जूनियर क्लीनिकल ट्रायल कॉर्डिनेटर

एरिया सेल्स मैनेजर

प्रोडक्ट मैनेजर

सेल्स एग्जीक्यूटिव

BAMS के बाद जॉब के क्षेत्र

हॉस्पिटल

नृसिंग होम

क्लीनिकल ट्रायल्स

एजुकेशन

हेल्थकेयर आईटी

आयुर्वदिक रिसोर्ट

स्पा रिसोर्ट

कॉलेजेस

रिसर्च इंस्टीट्यूट

गवर्नमेंट हॉस्पिटल

प्राइवेट हॉस्पिटल

पंचकर्म आश्रम

लाइफ साइंस सेक्टर

फार्मेसी सेक्टर

इंसोरेंस सेक्टर

What is the salary of a BAMS doctor?

एक बीएएमएस डॉक्टर की एवरेज सैलरी 30 हजार से 50 हजार के बीच मे होती है। जैसे जैसे एक्सपीरियंस बढ़ता जाता है, तो सैलरी में भी इजाफा होता रहता है। अच्छा अनुभव होने के बाद लाखों रुपये सैलरी मिलती है।

BAMS ke baad kya kare

इस कोर्स के बाद अगर आप स्पेशलाइजेशन करना चाहते हैं तो आप BAMS के बाद किसी एक अन्य सेक्टर में स्पेशलाइजेशन कर किसी एक रोग के विशेषज्ञ डॉक्टर बन सकते हैं। बहुत से BAMS डिग्री होल्डर बीएएमएस के बाद MD करना पसंद करते हैं। आप इन क्षेत्रों में स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं।

Prasuti and Stri Roga

Padartha Vigyan

Kayachikitsa

Swasth Vritta

Sharir Rachana

Kaumara Bhritya

Sharir Kriya

Rasa Shastra

Shalakya Tantra

Charak Samhita

Agad Tantra

Charak Samhita

Shallya Tantra

Rog & Vikriti Vigyan

Can I do MD after completing BAMS?

बीएएमएस को पूरा करने के बाद आप MD भी कर सकते हैं। जोकि हेल्थ सेक्टर का मास्टर डिग्री कोर्स है। MD का मतलब मास्टर इन मेडिसिन होता है। इसके लिए कैंडिडेट को बीएएमएस पास होना जरूरी है।

What are the subjects in BAMS course in hindi?

BAMS Syllabus – 1st Year

Anumanapariksha

Ayurveda Nirupana

Pratyaksha Pariksha

Dravya Vigyaniyam

Samavaya Vigyaniyam

Pariksha

BAMS Syllabus – 2nd Year

Mishraka Gana

Dravya

Basic Pathology

Prabhava

Vyadhi Vigyan

Hematology

Diseases of Rasavaha Srotas

BAMS Syllabus – 3rd Year

Ritucharya

Dinacharya

Janapadodhwamsa

Panchakosha Theory

Preventive Geriatrics

Garbha Vigyana

Epidemiology

BAMS Syllabus – 4th Year

Virechana Karma

Snehana

Nirjantukarana

Bāhya Snehana

Kshara and Kshara Karma

Physiotherapy

Marma

BAMS subjects language

बहुत से कैंडिडेट के दिमाग ये क्वेश्चन घूमता है कि बीएएमएस कोर्स हिंदी में होता है या इंग्लिश में, तो हम आपको बता दें फिलहाल BAMS Course की भाषा इंग्लिश ही होती है। लेकिन हिंदी मीडियम के छात्रों को देखते हुए कालेज हिंदी भाषा मे भी कोर्स कर बारे में पढ़ा सकते हैं।

Top Recruiters for BAMS Graduates

बीएएमएस डिग्री होल्डर को हायर करने वाली बेस्ट जॉब के लिहाज कम्पनी

डाबर

पतंजलि

हिमालया ड्रग कंपनी

विको लेबोरेटरी

सूर्य हर्बल लिमिटेड

इमानी

झंडू फार्मा

चरक फार्मा

बैधनाथ

हमदर्द

Is Sanskrit compulsory for BAMS

अधिकांश स्टूडेंट्स इसके बारे में जानकारी चाहते हैं कि क्या BAMS करने के लिए संस्कृति बिषय का होना जरूरी है, तो इसके लिए मेरा जबाब है नही। संस्कृति तो आआपको BAMS कोर्स के दौरान पढ़ाई जाएगी, न कि एडमिशन के लिए जरूरी है।

Is BAMS equal to MBBS?

अनेक स्टूडेंट्स के जेहन में सवाल आता है कि क्या BAMS कोर्स MBBS के बराबर होता है। इसके जबाब में हम आपको बता दे कि बीएएमएस आयुर्वदिक डॉक्टर बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स है। वंही MBBS एलोपैथीक डॉक्टर बनने कर लिए बैचलर डिग्री कोर्स है। इसके हिसाब से दोनों कोर्स बैचलर डिग्री हैं, तो दोनों कोर्स समान हैं, लेकिन अंतर इतना है कि BAMS डॉक्टर आयुर्वदिक दवाओं के माध्यम से रोगों के उपचार करते हैं। वंही एलोपैथिक डॉक्टर अंग्रेजी दवाओं के जरिये रोगों का उपचार करते हैं।

New Update of BAMS Course in November 2020

पिछले कुछ दिन से एक खबर बहुत ज्यादा सुर्खियों में आयी थी कि BAMS के डॉक्टर भी अब जनरल और ऑर्थोपेडिक सर्जरी करेंगे। इसके ही साथ आंख, कान और गले की सर्जरी भी करेंगे। इसी संबंध मर आयुष मंत्रालय ने अब इस खबर का एक स्पष्टिकरण जारी किया है। आयुष मंत्रालय ने साफ कहा है कि सरकार ने ये नया नियम लागू नहीं किया है। वंही इसकी घोषणा पहले से ही वर्ष 2016 को ही कर दी गई थी।

आयुष मंत्रालय ने ये दिया स्पष्टिकरण BAMS डॉक्टर के संबंध में

इसमे आयुष मंत्रालय ने एक और बात जोड़ी दी है जोकि बहुत महत्वपूर्ण है। आयुष मंत्रालय ने कहा कि 58 स्पेशल सर्जन डॉक्टर हैं सिर्फ उनको ही ऑपरेशन करने की अनुमति होगी। बाकी अन्य कोई भी आयुर्वेदिक डॉक्टर ऑपरेशन नहीं कर सकता है। वंही खबर आने के बाद ऐसा लग रहा था जैसे कि कोई भी आयुर्वेदिक डॉक्टर ऑपरेशन कर सकता है।

आपको बता दें कि आयुर्वेद के विद्यार्थियों को अभी सर्जरी की शिक्षा तो दी जाती थी, लेकिन उनके सर्जरी करने के अधिकारों को सरकार की ओर से इस बारे में स्पष्ट नहीं किया गया था।

वंही अब सरकार के नोटिफिकेशन के मुताबिक, आयुर्वेद के सर्जरी में पीजी करने वाले छात्रों को आंख, नाक, कान, गले के साथ ही जनरल सर्जरी के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिसमे छात्रों को स्तन की गांठों, अल्सर, मूत्रमार्ग के रोगों, पेट से बाहरी तत्वों की निकासी, ग्लुकोमा, मोतियाबिंद हटाने और कई तरह की सर्जरी करने का अधिकार मिलेगा।

आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी का अधिकार मिलने से भड़का IMA और क्या कहा

इंडियन मेडिकल असोसिएशन (IMA) ने सीसीआईएम के इस फैसले को एकतरफा और उद्दंडतापूर्ण बताया। आयुर्वेदिक डॉक्टरों को उसने सर्जरी के अयोग्य बताते हुए सीसीआईएम की कड़ी आलोचना की। इस संस्था की तरफ से जारी बयान में कहा गया,

आईएमए ने लक्ष्मण रेखा खींच रखी है जिसे लांघने पर घातक परिणाम सामने आएंगे। आगे IMA ने कहा, ‘आईएमए, काउंसिल को सलाह देता है कि वो प्राचीन ज्ञान के आधार पर सर्जरी का अपना तरीका इजाद करे और उसमें आधुनिक चिकित्सा शास्त्र पर आधारित प्रक्रिया से बिल्कुल दूर ही रहे।

NEET का क्या महत्व रह जाएगा – IMA

आईएमए ने सरकार से मांग की है कि वो ऐसे आधुनिक चिकित्सा शास्त्र के डॉक्टरों की पोस्टिंग भारतीय चिकित्सा के कॉलेजों में न करे। IMA ने सवाल किया कि अगर इस तरह के शॉर्टकट्स को मान्याता दी जाएगी तो फिर NEET का महत्व क्या रहेगा?

इसी सम्बन्ध में आईएमए ने सरकार से अपील करने के साथ-साथ अपने सदस्यों और बिरादरी के लोगों को भी चेतावनी दी कि वो किसी दूसरी चिकित्सा पद्धति के विद्यार्थियों को आधुनिक चिकित्सा पद्धति की शिक्षा न दें। वंही आईएमए ने ये ये भी कहा कि वो विभिन्न पद्धतियों के घालमेल को रोकने का हरसभव प्रयास करेगा और उसने कहा हरेक सिस्टम को अपने दम पर बढ़ने दिया जाए।

Best BAMS College in India

State Ayurvedic College Lucknow

Shri Dhanwantri Ayurvedic College Chandigarh

Dayanand Ayurvedic College Jalandhar

Rajiv Gandhi University of Health Sciences Bangalore

Bharati Vidyapeeth Pune

Gujarat Ayurved University Jamnagar

Ayurved Mahavidyalaya Mumbai

Government Ayurvedic College Raipur

JB Roy State Medical College Kolkata

Ayurvedic Medical College Kolhapur

Rishikul Government PG Ayurvedic College & Hospital Haridwar

Shri Ayurveda Mahavidyalaya Nagpur

National Institute of Ayurved Jaipur

Shri Krishna Government Ayurvedic College Kurukshetra

Asthang Ayurveda College Indore

NTR University of Health Science Vijayawada

Ayurvedic and Unani Tibia College New Delhi

Rajiv Gandhi Government Ayurvedic College Kangra

Government Ayurvedic College Nagpur

State Ayurvedic College & Hospital Gurukul Kangri Haridwar

उम्मीद है कि BAMS Me Career kaise banaye ये पोस्ट आपको पसन्द आएगी। इस आर्टिकल में मैंने BAMS Scope, BAMS Course fees की डिटेल में इन्फॉर्मेशन दी है। All About BAMS Course in hindi.

1 thought on “BAMS Me Career Kaise banaye”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *