News Anchoring Course details in hindi

News Anchoring Course details in hindi- क्या आप न्यूज़ एंकरिंग में कैरियर बनाना चाहते हैं? क्या आपका भी सपना है कि आप एक अच्छे और फेमस न्यूज़ एंकर बनें। अगर आप भी अंजना ओम कश्यम, रविश कुमार, श्वेता तिवारी, सुधीर चौधरी जैसे फेमस और अच्छे News Anchor बनना चाहते हैं तो आज की इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे में डिटेल में बतायेंगे।

जिससे आपको ये समझ मे आ जायेगा कि न्यूज़ एंकर बनने का सही रास्ता क्या है। News Anchor बनने के लिए कौन सा कोर्स करना चाहिए और इसकी Fees क्या होती है। कोर्स कंहा से करें जिससे कि कोर्स करने के बाद में आसानी से जॉब मिल जाये। इस तरह से हम आपको इस आर्टिकल में News Anchoring course के बारे में तो बतायेंगे ही साथ ही हम आपको ये भी बतायेंगे कि आप इस फील्ड में कैसे सक्सेज होंगे।

न्यूज़ एंकरिंग एक ऐसा फील्ड है। जिसमे नाम, दाम पैसा और ग्लैमर तो है ही, साथ ही आपका समाज मे रुतबा और रौब भी बढ़ जाता है। बड़े बड़े नेता, अभिनेता, खिलाड़ी, बिजनेसमैन, सक्सेजफुल मैन हर तरह के लोगो से मिलना जुलना और जान- पहचान होती है। इसलिए नए युवक और युवतियों के लिये यह फील्ड पहली पसंद है।

जो लोग इस फील्ड में Career बनाना चाहते हैं तो उनके लिए जरूरी ये है, कि सिर्फ ग्लैमर, नाम, दाम और शोहरत को देखकर इस सेक्टर में न आएं। बल्कि आप अपने आप से ये पूछे कि आपके अंदर ऐसी क्या खूबी है, जिससे कि आप इस फील्ड में आना चाहते हैं। मैं आपको ऐसा इसलिए कह रहा हूँ कि बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं, जोकी इस फील्ड से प्रभावित होकर इससे जुड़े कोर्स कर लेते हैं। लेकिन कोर्स करने के बाद में उनको कंही भी जॉब नही मिलती है।

जॉब इसलिए नही मिलती है कि उन्होंने सिर्फ ग्लैमर्स को देखकर मीडिया कोर्स कर लिया, लेकिन उनके अंदर न्यूज़ एंकरिंग को लेकर कोई जज्बा, पैशन और स्किल तो थी नही और न ही कोर्स करने के बाद अपने अंदर मीडिया प्रोफेशन के लायक कुछ स्किल डेवलप कर सके। जिसका नतीजा ये होता हैं कि सिर्फ डिग्री ही आपको हासिल होती है।

आपको अपने ऊपर पूरा विश्वास है और आप कैमरे के सामने व लोगों के बीच बोलने की कला रखते हैं तो आप इस सेक्टर में आसानी से कैरियर बना सकते हैं। इसलिए जो स्टूडेंट्स शर्मीले टाइप के हैं, कैमरे के सामने बोलने से हेजिटेशन लगता है, और वंही लोगों के सामने या भीड़ के बीच बोलने में डरते हैं तो ऐसे लोग News Anchoring के फील्ड में तो बिल्कुल न आएं।

नही तो असफलता निश्चित है। आप मीडिया के इस फील्ड में काम करने के लायक नही हैं। आप कोई दूसरा फील्ड चुन लें। आगे इस लेख में हम और भी जरूरी चीजें आपको बतायेंगे जोकीं न्यूज़ एंकरिंग के फील्ड में कैरियर बनाने के लिए जरूरी होती हैं। चलिये अब News Anchoring Course के बारे में जान लेते हैं।

News Anchoring Course details in hindi

न्यूज़ एंकरिंग के फील्ड में कैरियर बनाने के लिए कई तरह के कोर्स हैं, जिनको आप कर सकते हैं। डिप्लोमा से लेकर डिग्री स्तर तक के कोर्स अनेक संस्थानो द्वारा संचालित किए जाते हैं। इस फील्ड में कैरियर बनाने के लिए Mass Communication and Journalism से जुड़े कोर्स किये जाते हैं। जिनको आप 12वीं और ग्रेजुएशन के बाद कर सकते हैं।

मैं आपको जो ये नीचे कोर्स बता रहा हूँ इनमे से कोई सा भी कोर्स News Anchor बनने के लिए कर सकते हैं।

News Anchor Course After 12th

  • सर्टिफिकेट कोर्स इन न्यूज़ एंकरिंग
  • डिप्लोमा इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज़म
  • डिप्लोमा इन टीवी जर्नलिज्म
  • डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज़म
  • डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया
  • बीए इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म
  • बीएससी इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म
  • बीए इन जर्नलिज्म
  • बीए इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म
  • बीजेएमसी
  • बीएससी मास कॉम्युनिकेशन
  • बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया

News Anchor Course After ग्रेजुएशन

ऐसे कैंडिडेट जिन्होंने किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन किया है, चाहें उसने बीए, बीएससी, बीकॉम या बीटेक या अन्य ग्रेजुएशन स्तर का कोर्स किया है, उसके बाद न्यूज़ एंकरिंग में पीजी डिप्लोमा या मास्टर डिग्री कोर्स कर सकते हैं।

पीजी डिप्लोमा इन जर्नलिज्म

पीजी डिप्लोमा इन टीवी जर्नलिसम

पीजी डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया

पीजी डिप्लोमा इन जर्नलिज़म एंड मास कॉम्युनिकेशन

पीजी डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म

एमए इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जॉर्नलिज्म

एमएससी इन मास कॉम्युनिकेशन

मास्टर इन जर्नलिज़म (एमजे)

एमएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया

एमजेएमसी

एमए इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिजम

News Anchoring Course Duration

डिप्लोमा कोर्स की अवधि 2 साल, बैचलर डिग्री जैसेकि बीए, बीएससी की ड्यूरेशन तीन साल होती है। वंही पीजी डिप्लोमा की अवधि 1 साल होती है और मास्टर डिग्री की अवधि 2 साल होती है।

ये भी पढ़ें –

News Anchoring Course

इस कोर्स की fees की बात करें तो ये डिपेंड करता है कि आप कैसे संस्थान से कोर्स कर रहे हैं। अगर आप प्राइवेट पॉपुलर संस्थान से कोर्स कर रहे हैं तो वंहा पर फीस लाखो रुपये प्रतिबर्ष हो सकती है। आमतौर पर इन कोर्स की फीस प्राइवेट मीडिया संस्थानों में 50 हजार से लेकर 1 लाख प्रतिबर्ष के बीच होती है।

इसके विपरीत गवर्नमेंट संस्थानो में फीस 5 हजार से लेकर 15 से 20 हजार के बीच होती है। लेकिन अच्छे गवर्नमेंट कॉलेज में एडमिशन एंट्रेंस एग्जाम क्वालीफाई करने पर ही मिलता है। वंही बहुत से गवर्नमेंट कॉलेज मेरिट के आधार पर एडमिशन देते हैं।

अगर आप मीडियम और गरीब फैमिली से हैं तो आप गवर्नमेंट कॉलेज से ही कोर्स करें। फिलहाल मैं तो किसी को भी सलाह नही देता कि प्राइवेट कॉलेज से आप कोर्स करें। इसका कारण ये है कि गवर्नमेंट कॉलेज में फीस तो कम होती ही है, साथ ही गवर्नमेंट कॉलेज में टीचर काफी अच्छे होते हैं, लैब की सुविधाएं भी अच्छी होती हैं। जंहा पर आपको काफी अच्छा नॉलेज मिलता है। इसके विपरीत बहुत से प्राइवेट कॉलेज लूटने का काम करते हैं। ऐसा नही है कि सभी प्राइवेट कॉलेज ऐसा करते हैं।

किसी भी प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन लेने से पहले ये जांच पड़ताल कर लें कि उस कॉलेज के स्टूडेंट्स को किसी भी न्यूज चैनल में जॉब मिली है या नही। उसमे प्रॉपर लैब की सुविधा है या नही टीचर अच्छे हैं या नही। अगर ये सभी चीजें ठीक हैं तो ही एडमिशन लें।

आपने देखा होगा कि आपके आसपास ही बहुत से ऐसे स्टूडेंट्स media course किये बेरोजगार घूम रहे हैं। ऐसा क्यों है कि उसको जॉब नही मिली। इसके दो कारण होते हैं। पहला तो ये हो सकता है कि उसने अनजाने में किसी ऐसे कॉलेज में एडमिशन ले लिया हो। जिसमें न तो सही लैब की सुविधा और न ही अच्छे टीचर होंते हैं।

दूसरा कारण ये हो सकता है कि वो स्टूडेंट्स सिर्फ मीडिया की चकाचौंध को देखकर इस फील्ड में आ गया। कोर्स करने के बाद भी वह अपने अंदर मीडिया से रीलेटेड स्किल्स को डेवलप नही कर पाया, तो बताओ जॉब कैसे मिलेगी।

News Anchoring Me Career Scope

इस फील्ड में कैरियर स्कोप तो अच्छा है, लेकिन काम उन्ही लोगों को मिलता है। जिनको इंडस्ट्री से रीलेटेड नॉलेज है। वर्ना डिग्री की कोई भी वैल्यू इस क्षेत्र में नही है। वैसे भी आज के समय मे काफी ज्यादा न्यूज़ चैनल हो चुके हैं, तो इस फील्ड में प्रोफेशनल लोगों की मांग भी बढ़ी है। हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, बंगाली तमाम भाषाओं के न्यूज़ चैनल चल रहे हैं। आपकी जिस भी भाषा पर पकड़ है, उस भाषा के न्यूज चैनल में आप News Anchor की जॉब कर सकते हैं।

वर्तमान समय मे यूट्यूब की काफी ज्यादा लोकप्रियता बढ़ गई है। इसलिए आज के समय मे लगभग सभी न्यूज़ चैनल अपना यूट्यूब चैनल भी चला रहे हैं। अब तो बहुत से यूट्यूब न्यूज़ चैनल के लिए न्यूज़ एंकर की जरूरत रहती है तो आप इन यूट्यूब चैनल में भी न्यूज़ एंकर लके तौर पर कैरियर की शुरुआत कर सकते हैं। यंहा पर भी शुरुआत में सैलरी 12 से 15 हजार आसानी से मिल जाती है। जब अनुभव अच्छा हो जाये तो न्यूज़ चैनल में चले जायें। आपका खुद का भी न्यूज़ चैनल स्टार्ट कर सकते हैं और यूट्यूब के माध्यम से इनकम कर सकते हैं। इस तरह से इसमे रोजगार के अवसरों की कमी नही है। अगर आप दिल से करना चाहो तो।

News Anchor banne ke liye skills

न्यूज़ एंकर बनने के लिए सबसे जरूरी बात तो ये हैं कि आपके अंदर कॉन्फिडेंस और बेहतरीन कम्युनिकेशन स्किल हो। इसके साथ ही आपको कैमरे के सामने और लोगों के सामने बोलने से डर न लगता हों। न्यूज़ राइटिंग और न्यूज़ रीडिंग का अच्छा ज्ञान होना चाहिए, साथ ही हिंदी और अंग्रेजी भाषा का नॉलेज भी होना चाहिए, करेंट के मुद्दों से अपडेट रहें। इंटरवू और डिबेट कैसे कंडक्ट किया जाता है, इसके बारे में भी जानकारी हो। इस फील्ड में किताबी नॉलेज काम कोई खास काम मे नही आता है, आपको प्रैक्टिकली नॉलेज होना चाहिए। क्योंकि ये सेक्टर परफार्मिंग आर्ट्स का है। इसलिए आपको अच्छे से परफॉर्म करना आना चाहिए।.

Best College For News Anchoring Course

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कॉम्युनिकेशन दिल्ली

जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली

माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी भोपाल

हैदराबाद यूनिवर्सिटी

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी

आंध्र यूनिवर्सिटी

दिल्ली यूनिवर्सिटी

News Anchoring या मास कॉम्युनिकेशन के और भी ज्यादा कॉलेज की जानकारी के लिए हमारी ये पोस्ट पढ़े- बेस्ट मास कॉम्युनिकेशन कॉलेज

उम्मीद है कि News Anchoring Course details in hindi ये पोस्ट आपको पसन्द आयी होगी। क्योंकि इस पोस्ट में मैंने News Anchoring Course और News Anchoring Career के बारे में डिटेल में बताया है। फिर भी अगर आपके कोई सवाल हैं तो आप कमेंट के माध्य्म से पूँछ सकते हैं।

मीडिया में बेहतरीन करियर के क्षेत्र-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *