PO Meaning in Hindi

PO Meaning in Hindi: पीओ का मीनिंग क्या है? पीओ क्या है, बैंक में पीओ कैसे बनें आदि की जानकारी। आज के इस लेख में हम आपको पीओ का मीनिंग बताएंगे। अगर आप भी पीओ का मीनिंग जानने के लिए हमारे ब्लॉग पर आए हैं तो आपका हमारे ब्लॉग पर स्वागत है।

बैंक में पीओ का पद बहुत महत्वपूर्ण होता है। सभी सरकारी व प्राइवेट बैंकों में पीओ की नियुक्ति की जाती है। यह बैंक के क्षेत्र में मैनेजर लेवल की पोस्ट होती है। काफा स्टूडेंट्स जो सरकारी नौकरी का सपना देखते हैं उनमें से काफी लोग बैंक पीओ परीक्षा की तैयारी करते हैं। हर साल इस परीक्षा में लाखों अभ्यर्थी बैठते हैं। इस वजह से पीओ शब्द से हर कोई परिचित है, लेकिन क्या आप पीओ का हिंदी में मीनिंग जानते हैं। अगर नही जानते हैं तो हम आपको बताते हैं।

PO Meaning in Hindi

पीओ का फुल फॉर्म प्रोबेशनरी ऑफीसर होता है और इसका हिंदी में मीनिंग परिवक्षाधीन अधिकारी होता है। सरकारी बैंक में पीओ बनने के लिए काफी मेहनत और धैर्य की आवश्यकता होती है।

पीओ बनने के लिए योग्यता

पीओ बनने के लिए योग्यता की बात करें तो अभ्यर्थी को इसके लिए किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएट होना चाहिए। अगर कैंडिडेट ने कोई भी ग्रेजुएशन लेवल का कोर्स किया है तो वो पीओ का एग्जाम दे सकता है।

बैंक में पीओ बनने के लिए उम्र सीमा

बैंक पीओ परीक्षा में आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को स्नातक होने साथ ही उनकी उम्र 21 से 30 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। ये हिंदी और अंग्रेजी दोनो भाषाओं में आयोजित की जाती है।

पीओं सेलेक्शन प्रोसेस

बैंक पीओ बनने के लिए सबसे पहले प्री परीक्षा देनी पड़ती है और उसके बाद प्री क्वालीफाई करने के बाद मेंस एग्जाम देना पड़ता है। जो उम्मीदवार मेंस परीक्षा को पास कर लेते हैं तो इसके बाद उनका इंटरव्यू लिया जाता है। इसके बाद मेंस और मेरिट के आधार पर कैंडिडेट का सेलेक्शन किया जाता है।

बैंक पीओं एग्जाम में क्या पूंछा जाता है?

रीजनिंग
मैथमेटिक्स
इंग्लिश

बैंक पीओ रीजनिंग सिलेबस

बैठने की व्यवस्था
असमानता
पहेली
युक्तिवाक्य
डेटा पर्याप्तता
इनपुट आउटपुट
आदेश और रैंकिंग
रक्त संबंध
दूरी और दिशा
अक्षरांकीय श्रंखला
मौखिक तर्क

बैंक पीओं इंग्लिश सिलेबस

परीक्षण बंद करें
स्पॉटिंग एरर
समझबूझ कर पढ़ना
वाक्य सुधार
रिक्त स्थान भरें
पैरा जंबल्स
पैरा/वाक्य समापन

बैंक पीओं सिलेबस मैथमेटिक्स

संख्या श्रृंखला
सरलीकरण / सन्निकटन
डेटा व्याख्या
डेटा पर्याप्तता
द्विघात समीकरण
औसत
क्षेत्रमिति
अनुपात और अनुपात
लाभ और हानि
समय और दूरी
कार्य, समय और ऊर्जा
संबंधों
संभावना
क्रमपरिवर्तन और संयोजन
साधारण और चक्रवृद्धि ब्याज

बैंक पीओं की तैयारी कैसे करनी चाहिए?

सबसे पहले पीओं का सिलेबस देखें और उसको सही से एनालिसिस करें। इसके बाद सिलेबस के हिसाब से स्टडी मैटेरियल कलेक्ट करें। जब आपके पास सिलेबस और स्टडी मैटेरियल उपलब्ध है तो आपको पढ़ने के लिए अपना एक टाइम टेबल बनाना चाहिए। टाइम टेबल के अनुसार ही तैयारी करें। इसके साथ ही प्रीवियस ईयर के क्वेश्चन पेपर भी सॉल्व करें। मॉक टेस्ट दें । रोजाना 6 से 8 घंटे पढ़ाई करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.