BUMS Course details in Hindi

BUMS Course Details in Hindi: दोस्तों 12वीं के बाद सभी स्टूडेंट अपने कैरियर को लेकर सचेत हो जाते हैं। किसी को इंजीनियर बनना है, किसी को फैशन डिज़ाइनर बनना होता है, तो वंही कोई फिल्म मेकिग के फील्ड में कैरियर बनाना चाहता है। वंही कुछ ऐसे होते हैं, जिनकी रुचि मेडिकल के फील्ड में होती है, तो वे डॉक्टर बनना चाहते हैं या फार्मासिस्ट या नृसिंग के फील्ड में कैरियर बनाना चाहते हैं।

आज के इस आर्टिकल का हमारा विषय BUMS Course Details in hindi है, यानिकि यंहा पर हम आपको बीयूएमएस कोर्स से जुड़ी हर जानकारी देंगे। अगर आपको भी कोर्स से जुड़ी हर जानकारी चाहिए, वो भी डिटेल में तो careerkaisebane.in पर आपका स्वागत है।

यंहा पर हम बीयूएमएस कोर्स की सम्पूर्ण जानकारी देंगे। जिससे कि आपको इस फील्ड और इस फील्ड के कार्य प्रकृति की सारी इन्फॉर्मेशन हो जाएगी। जिससे आपको ये निर्णय लेने में मदद मिलेगी कि BUMS कोर्स आपके लिए सही है या नही। इस कोर्स को कंहा से करना चाहिए और कंहा से नही। इसकी फीस कितनी होती है। BUMS में एडमिशन कैसे मिलता है। इसके साथ ही बीयूएमएस और BAMS में क्या अंतर है? इसके बारे में भी हम बताएंगे। इन दोनो कोर्स में से आपको कौन सा कोर्स करना चाहिए? इसकी जानकारी भी आपको इस आर्टिकल में मिल जाएगी। चलिये BUMS Course Detalis in Hindi इससे जुड़ी आपको जानकरी देते हैं।

BUMS Kya hai

BUMS (बैचलर ऑफ यूनानी मेडिसिन एंड सर्जरी) यूनानी चिकित्सा और सर्जरी के क्षेत्र में एक स्नातक डिग्री कोर्स है। यह डिग्री यूनानी प्रणाली के चिकित्सा सिद्धांत को कवर करती है। यूनानी चिकित्सा क्षेत्र में जो लोग डॉक्टर (हाकिम) बनने की चाहत रखते हैं, उनके लिए यह बेहतरीन कोर्स है।

यूनानी चिकित्सा पध्दति वैकल्पिक औषधियों की प्रणाली है। इसमे मानव शरीर की प्राकृतिक उपचार शक्ति को बढ़ाकर रोगियों का इलाज किया जाता है। यूनानी चिकित्सा की अवधारणा यह है कि शरीर अपनी स्वयं की उपचार शक्ति के कारण से स्वयं को फिर से जीवंत करता है। बस इस पद्दति में केवल डॉक्टर को प्राकृतिक उपचार शक्ति को बढ़ाकर रोग को ठीक करने की आवश्यकता है।

BUMS Course Details in Hindi

बैचलर ऑफ यूनानी मेडिसिन एंड सर्जरी (BUMS) यूनानी चिकित्सा के क्षेत्र में एक लोकप्रिय डिग्री प्रोग्राम में से एक है। यह एक यूजी डिग्री है। इस कोर्स की अवधि 5.5 साल होती है। जिसमे एक साल की इंटर्नशिप भी शामिल है। आप इस तरह भी समझ सकते हैं, कि BUMS Course साढ़े चार साल का होता है और इसके बाद 1 साल आपको इंटर्नशिप करनी होती है। इस तरह इसकी अवधि साढ़े 5 साल हो जाती है।

BUMS Elegibility in Hindi

बीयूएमएस करने के लिए उम्मीदवार को फिजीक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी विषय से 12वीं किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास होना चाहिए। इसके बाद BUMS के लिए आवेदन किया जा सकता है। जो विद्यार्थी 12वीं में पढ़ाई कर रहे हैं, वो भी इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।

BUMS Scope (बीयूएमएस में कैरियर स्कोप क्या है?)

बीयूएमएस चिकित्सा विज्ञान का एक अहम कोर्स है। इसलिए इसमे कैरियर की बहुत ही अच्छी संभावनाएं भी हैं। BUMS को पूरा करने के बाद देश के अलावा विदेशों में भी करियर अच्छे अवसर होते हैं। जिस तरह से दुनिया मे जनसंख्या बढ़ रही है, उसी तरह रोगियों की संख्या भी बढ़ रही है। बढ़ती रोगियों की संख्या ने मेडिकल के फील्ड में रोजगार के अवसर भी बढ़ा दिए हैं।

पहले कभी हॉस्पिटल्स और क्लीनिक्स काफी सीमित हुआ करते थे, लेकिन आज हॉस्पिटल्स और क्लीनिक्स की भरमार है। इतना ही नही इनमे मरीजों की संख्या भी काफी ज्यादा रहती है। इसको देखते हुए कह सकते हैं कि BUMS के बाद अच्छा कैरियर बनाया जा सकता है।

बढ़ती हॉस्पिटल्स की संख्या की वजह से डॉक्टर्स की काफी मांग रहती है। BUMS पूरा करने के बाद में आप तमामं हॉस्पिटल्स में जॉब कर सकते हैं। कुछ सालों का अनुभव हासिल करने के बाद में आप खुद का भी क्लीनिक शुरू कर सकते हैं।

BUMS कोर्स की यही तो एक सबसे बड़ी खासियत है कि इसको पूरा करने के बाद में आप अपना क्लीनक या अस्पताल भी खोल सकते हैं। इसलिए जो लोग जॉब नही करना चाहते हैं, तो वे क्लीनिक या हॉस्पिटल खोलकर खुद की प्रैक्टिस भी शुरू कर सकते हैं।

बीयूएमएस के बाद प्राइवेट सेक्टर के अलावा गवर्नमेंट सेक्टरों में भी डॉक्टर्स की नियुक्ति की जाती हैं। जंहा पर आप आवेदन करके इस जॉब को हासिल कर सकते हैं।

बीयूएमएस करने के बाद उन कंपनियों में काम कर सकते हैं जो यूनानी दवाओं को तैयार करने का काम करती हैं। इसके अलावा यूनानी कॉलेजों में प्रोफेसर या शोधकर्ता के रूप में नौकरी मिल सकती है। काफी बड़ी संख्या में लोग ऐसे हैं जोकीं एलोपैथिक उपचार से संतुष्ट नहीं हैं। BUMS करने के बॉस आपको अपने कैरियर को लेकर भयभीत होने की जरूरत नही है। इसलिए आप निश्चिन्ति होकर इस कोर्स को करें।

BUMS Job Profile in Hindi (इन पदों पर मिलेगी जॉब)

डाक्टर

चिकित्सक

सलाहकार

वैज्ञानिक

व्याख्याता

फार्मेसिस्ट

निजी प्रैक्टिस

चिकित्सा सहायक

स्पा निदेशक

हकीम

सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ

BUMS Salary in Hindi (बीयूएमएस के बाद मिलने वाली सैलरी)

बीयूएमएस करने के तुरंत बाद शुरुआत के दिनों में आपको 15 से 20 हजार रुपये प्रतिमाह की सैलरी मिल जाती है। 2 से 3 साल का अनुभव होने के बाद 30 से 40 हजार तक सैलरी मिल जाती। अगर आप खुद का क्लीनिक या हॉस्पिटल शुरू करते हैं तो आप और भी अच्छी इनकम कर सकते हैं।

चिकित्सा क्षेत्र में वेतन अन्य क्षेत्रों में बेंचमार्क है। यूनानी क्षेत्र भी इस संबंध में है। सरकारी क्षेत्र में एक यूनानी डॉक्टर का वेतन 12000 से 15000 प्रति माह है जबकि निजी क्षेत्र में वेतन 15000 प्रति माह से शुरू होता है।

BUMS के बाद जॉब कंहा- कंहा कर सकते हैं?

यूनानी मेडिकल कॉलेज

यूनानी हॉस्पिटल्स

यूनानी क्लिनिक

यूनानी धर्मार्थ संस्थान

यूनानी दवा भंडार

यूनानी कंसल्टेंसीज

यूनानी और आयुर्वेदिक अनुसंधान संस्थान

यूनानी चिकित्सा प्रणाली शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान

हेल्थकेयर सोसाइटी

जीवन विज्ञान उद्योग

यूनानी सरकारी अस्पताल

हमदर्द जैसे यूनानी फार्मास्युटिकल उद्योग

यूनानी नर्सिंग होम

यूनानी निजी अस्पताल

सरकारी अस्पताल

यूनानी औषधालय

BUMS Admission Process

बीयूएमएस में एडमिशन डायरेक्ट नही मिलता है। इसमे एडमिशन के किये NEET एग्जाम देना होगा। जिसके बाद ही इसमे एडमिशन लिया जा सकता है। डॉक्टर बनने के लिए जितने भी कोर्स जैसेकि BAMS, MBBS, BDS, BUMS, BHMS होते हैं, इन सभी मे एडमिशन नीट के जरिये ही मिलता है।

इसके अलावा बीयूएमएस में एडमिशन के क्लियर कुछ स्टेट लेवल व यूनिवर्सिटी लेवल के भी एग्जाम होते हैं, जिनके जरिये भी BUMS में एडमिशन मिलता है। जिनमे से प्रमुख एग्जाम असम CEE एंट्रेंस टेस्ट, तेलगांना TS, EAMCET एंट्रेंस एग्जाम, IPU CET, BVP, CET, OJEE इनके

BUMS Course Fees in Hindi

इसकी फीस 50 हजार से लेकर 6 लाख तक होती है। डिपेंड करता है कि आप किस तरह के कॉलेज से कोर्स कर रहे हैं। जितने भी गवर्नमेंट संस्थान होते हैं, इनकी फीस काफी कम होती है। प्राइवेट और गवर्नमेंट कॉलेजों की फ़ीस में बहुत बड़ा अंतर होता है।

अब आपको BUMS Course Details in Hindi इसके बारे में जानकारी मिल गई होगी। चलिये अब मैं आपको बीयूएमएस से संबंधित ऐसे गूगल में सर्च किये जाने वाले सवालों के बारे में बताता हूँ, जोकीं आपके लिए काफी फायदेमंद हैं।

BUMS से संबंधित गूगल में सर्च किये जाने वाले प्रश्न:

Can we do bums without NEET?

हां बिना नीट के भी बीयूएमएस किया जा सकता है, जिसके लिए विभिन्न यूनिवर्सिटी और स्टेट एंट्रेन्स एग्जाम का आयोजन करते हैं, लेकिन अब ज्यादातर NEET को वरीयता दी जा रही है।

Can BUMS doctor do surgery?

यूनानी डॉक्टर्स एसोसिएशन ने कहा है, कि “हमें भी एमबीबीएस के समान हि पाठ्यक्रम पढ़ाया जाता है और सर्जरी करने के लिए अच्छी तरह से प्रशिक्षित भीबकिया जाता है, वास्तव में, हमारे पास हमारे स्नातक पाठ्यक्रम के साथ एक साल की इंटर्नशिप भी है।” सर्जरी के संबंध में संघ सरकार को भेजने के लिए एक प्रतिनिधित्व तैयार किया जा रहा है, ये एसोसिएशन ने घोषणा की है।

Is MBBS same as BUMS?

डिग्री के मामले में दोनो ही बैचलर डिग्री कोर्स हैं। यही दोनो में समानता है। दोनो ही कोर्स के बाद आप अपने नाम के साथ डॉक्टर लिख सकते हैं। लेकिन BUMS और MBBS दोनो में काफी अंतर है। एमबीबीएस एलोपैथिक चिकित्सा पद्दति है, जिसमे अंग्रेजी दवाओं के माध्यम से उपचार किया जाता है। वंही बीयूएमएस यूनानी चिकित्सा पद्दति है।

BAMS और BUMS में क्या अंतर है?

बीएएमएस एक आयुर्वेदिक चिकित्सा पध्दति का कोर्स है। इस कोर्स के बाद आप आयुर्वेदिक डॉक्टर के तौर पर प्रैक्टिस कर सकते हैं। वंही बीयूएमएस के बाद आप यूनानी चिकित्सा पद्दति से इलाज करते हैं। फिलहाल दोनों ही मेडिकल फील्ड के कोर्स हैं और दोनो ही बैचलर डिग्री प्रोग्राम हैं।

BUMS (यूनानी चिकित्सा पद्दति का इतिहास)

यूनानी चिकित्सा प्रणाली दुनिया के दक्षिण-एशिया और मध्य-पूर्व के देशों के द्वारा अपनाई गई प्राचीन दवा प्रणाली में से एक है। इस प्रणाली की उत्पत्ति ग्रीक के महान चिकित्सक “हिप्पोक्रेट्स” के द्वारा की गई है। इसे “हिकमत” या यूनानी तिब्ब चिकित्सा के रूप में भी जाना जाता है। इसका 6000 साल पूर्व का इतिहास है

Can I do BUMS after 12th

हां जिन अभ्यार्थियों ने 12वीं 50% अंकों से फिजीक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी से की है, वो कैंडिडेट बीयूएमएस कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए नीट एग्जाम या अन्य जरूरी प्रवेश परीक्षा के माध्यम से ही BUMS में एडमिशन मिलता है।

Can I become a surgeon after bums?

सर्जन बनने के लिए उम्मीदवार के पास एमसीआई से मान्यता प्राप्त कॉलेज से एमबीबीएस की डिग्री होनी चाहिए। बीयूएमएस, बीएएमएस आदि जैसी कोई वैकल्पिक डिग्री से आप सर्जन नही बन सकते हैं।

Can bums write Dr?

हां बीयूएमएस करने के बाद आप अपने नाम के साथ डॉक्टर शब्द का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Can I get government job after bums?

हां, बैचलर ऑफ यूनानी मेडिसिन एंड सर्जरी (BUMS) और यूनानी पीजी धारक के पास में सार्वजनिक क्षेत्र और निजी दोनों में यूनानी चिकित्सा अधिकारी, हकीम, फार्मासिस्ट, अनुसंधान अधिकारी, सहायक अनुसंधान अधिकारी आदि के रूप में नौकरी के विकल्प होते हैं।

Best BUMS College in India

जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी

दिल्ली यूनिवर्सिटी

महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस

राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस

आलम इकबाल यूनानी मेडिकल कॉलेज मुजफ्फरनगर

गवर्नमेंट यूनानी मेडिकल कॉलेज चेन्नई

आयुर्वेदिक एंड यूनानी तिब्बिया कॉलेज

जेडवीएम यूनानी मेडिकल कॉलेज

सीएसजेएमयू

शिवजी यूनिवर्सिटी कोल्हापुर

केरला यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस

डॉ एनटीआर यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस विजयवाड़ा

उतराखण्ड आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी

BUMS Related Search in Google

BUMS College Fees
BUMS College in Allahabad
BUMS College in Lucknow
BUMS College in UP
BUMS College Fees in India
BUMS College in Bhopal Fees Structure
BUMS colleges in Maharashtra with fees
BUMS Colleges in India
BUMS College near me
BUMS Fees in Private College
BUMS Cut off 2020 for Government Colleges
BUMS fees in Private College Lucknow
BUMS Fees in Government College
BUMS Private College fees in India
BUMS cutoff for Government College
BUMS Private College fees in Uttar Pradesh
BUMS Course fees in Bihar

उम्मीद है कि BUMS Course Details in Hindi ये आर्टिकल आपको पसन्द आया होगा, क्योंकि इसमे मैंने BUMS kya hai और इसमे कैरियर कैसे बनाये, इसके बारे में डिटेल में बताया है, जोकीं आपके लिए बहुत ही यूजफुल साबित होगा।

Leave a Comment