Software Engineering Course in Hindi

Software Engineering Course in Hindi: सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्या है? इसमें कैरियर कैसे बनायें? कोर्स फीस, स्कोप, जॉब, सैलरी, बेस्ट कॉलेज, एडमिशन प्रोसेस, जॉब कैसे मिलेगी? Software Engineering Course कोर्स की डिटेल में जानकारी।

आज के डिजिटल युग मे सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग एक बहुत ही बेहतरीन कैरियर विकल्प के रूप में उभर कर सामने आया है। जिस तरह से कंप्यूटर और स्मार्टफोन का युग ने तेजी से विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, इसके साथ ही इस फील्ड में रोजगार के भरपूर अवसर हैं। आने वाले समय मे और भी ज्यादा सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में कैरियर के अवसर उपलब्ध होंगे।

Software Engineering Course in Hindi

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में कैरियर बनाने के लिए 12वीं फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ से पास करने के बाद Software Engineering Course किये जा सकते हैं। जिसके बाद आप इस फील्ड में जॉब कर सकते हैं।

Software Engineering kya hai

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग IT की एक ब्रांच है। जिसमे विभिन्न तरह के सॉफ्टवेयर की डिजाइनिंग, मेंटीनेंस, टेस्टिंग, प्रोग्रामिंग, डेवलपमेंट जैसे कार्य किये जाते हैं। इसमे कई तरह के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल होता है, जैसेकि Java, Html, Php, Python, C, C++ आदि। इसलिए इस फील्ड में कैरियर बनाने के लिए जरूरी है कि आपको इन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का अच्छा ज्ञान होना चाहिए। जब आप सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कोर्स करते हैं तो उसमें आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सिखाई जाती हैं।

Software Engineer के कार्य

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर कस्टमर की जरूरत के अनुसार सॉफ्टवेयर का निर्माण करना होता है।

सॉफ्टवेयर में अगर किसी भी तरह की कोई खराबी आ रही है तो उनमें से बग्स को ढूंढ कर उनको ठीक करना भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर का ही काम होता है, ताकि सॉफ्टवेयर की परफॉर्मेंस को सही जा सके।

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर का ज्यादा समय सॉफ्टवेयर की टेस्टिंग करने में ही गुजरती है, वे सॉफ्टवेयर में आने वाली कमी या समस्या को दूर करते हैं।

अगर सॉफ्टवेयर इंजीनियर को यह लगता है कि सॉफ्टवेयर प्रोग्राम को अपडेट करने की आवश्यकता है तो उसके अपडेट के लिए उसको काम करना होता।

इसके अलावा किसी सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम कंप्यूटर स्पेशलिस्ट के साथ में मिलकर विभिन्न प्रकार के प्रोजेक्ट पर भी काम करना होता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए कौन सी डिग्री करनी पड़ती है

इस फील्ड में 12वीं के बाद कैरियर बनाया जा सकता है। इसमे कैरियर बनाने के लिए IT और कंप्यूटर साइंस में बैचलर डिग्री करने की जरूरत होती है। हालांकि बैचलर डिग्री के बाद आप इसमें मास्टर डिग्री या फिर किसी एक फील्ड में स्पेसलाइजेशन भी कर सकते हैं। चलिये जानते हैं कि सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में कैरियर बनाने के लिए आप कौन- कौन से कोर्स कर सकते हैं।

Software Engineering Course in Hindi

बीटेक इन कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग
बीटेक इन सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग
बीटेक इन इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी
बीएससी इन इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी
बीसीए बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन
बीएससी इन सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग
बीएससी बैचलर ऑफ कंप्यूटर साइंस
बीएससी इन कंप्यूटर साइंस
बीएससी इन आईटी
डिप्लोमा इन आईटी
डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंस
बीसीए
एमसीए

जितने भी ऊपर मैंने ये कोर्स बताएं हैं, सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आप इनमें से कोई सा भी कोर्स कर सकते हैं।

Software Engineering Me kaise Admission Milega

आजकल तो अनेक कॉलेजों में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग Course संचालित किए जाते हैं। जंहा से आप ये कोर्स कर सकते हैं। अगर आप किसी अच्‍छे कॉलेज से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कोर्स करना चाहते हैं तो आपको इसके लिए प्रवेश परीक्षा देनी होगी, जोकी कई तरह की होती हैं। जैसेकि- जेईई एडवांस, जेईई मेन, बिटसेट, एआईईई और भी अन्य प्रवेश परीक्षाएं विभिन्न यूनिवर्सिटीज के द्वारा आयोजित की जाती हैं। जिनके जरिए आप इंडिया के बेस्ट कॉलेजों से Software Engineering कोर्स कर सकते हैं।

इसके अलावा भारत में ऐसे बहुत से संस्थान हैं जहां पर बिना प्रवेश परीक्षा के भी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में एडमिशन मिल जाता है। इसके अलावा बहुत से संस्थान ऐसे हैं जहां पर आप सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: बीसीए कोर्स में कैरियर कैसे बनायें?

Software Engineering Me Career Scope kya hai

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कोर्स को पूरा करने के बाद में आपके पास जॉब की कमी नहीं होगी। आप प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनों तरह के संस्‍थानों में जॉब कर सकते हैं।

अगर कोई भी उम्मीदवार प्राइवेट सेक्टर में जॉब करना चाहता है तो वह किसी भी प्राइवेट आईटी कंपनी, वेब डिजाइनिंग कंपनी, सॉफ्टवेयर डेवलोपमेन्ट कंपनी, बैंक, स्कूल-कॉलेज, एजुकेशनल डिपार्टमेंट, फाइनेंस डिपार्टमेंट आदि में जॉब कर सकते हैं।

वहीं सरकारी सेक्टर में भी बहुत सारे जॉब के अवसर मिलते हैं जहां पर वह केंद्र व राज्‍य सरकार के विभिन्‍न विभागों व संस्‍थानों में समय- समय वैकेंसी निकाली जाती हैं, जंहा पर आप जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Software Engineering करने के बाद कंहा- कंहा जॉब कर सकते हैं?

सॉफ्टवेयर डेवलपिंग इंडस्ट्री
वेब डिजाइनिंग
एप डेवलपिंग
बैंकिंग
फाइनेंस
एजुकेशनल सेक्टर
आर्मी
रोबोटिक्स
साइबर इंडस्ट्री
गेम डिजाइनिंग इंडस्ट्री
रेलवे
आईटी

Software Engineering करने के बाद इन पदों पर मिलेगी जॉब

Software Developer
Software Engineer
Software Tester
Web Developer
Game Developer
full stack developer
Project manager
Software Architect
Software Testing
Software quality assurance
Chief Technology Officer
Computer security
Business Analyst
Security engineering
Database Adminstrator
Data Analyst
Front-end web development
Product Manager
Java Developer
Sales engineering
Embedded system
Recruiter
Test engineer

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कोर्स कितने साल का होता है?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आप कई आप कई तरह के कोर्स कर सकते हैं, इनकी ड्यूरेशन भी अलग- अलग होती है।

बीटेक कोर्स की अवधि 4 साल होती है।

बीएससी आईटी कोर्स की ड्यूरेशन 3 साल होती है।

बीएससी कंप्यूटर साइंस की ड्यूरेशन 3 साल होती है।

डिप्लोमा इन आईटी और डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंस की ड्यूरेशन 3 साल होती है।

बीसीए कोर्स की ड्यूरेशन 3 साल होती है।

एमसीए कोर्स की ड्यूरेशन 3 साल होती है।

Software Engineering Course Fees in Hindi

इस कोर्स की फीस इस बात पर निर्भर करती है कि आप सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग से संबंधित कौन सा कोर्स कर रहे हैं और किस तरह के संस्थान से कर रहे हैं। गवर्नमेंट संस्थानों में फीस काफी कम होती है और प्राइवेट संस्थानो में फीस काफी ज्यादा होती है। फिलहाल इन कोर्स की औसत फीस 15 हजार से लेकर 2 लाख प्रतिबर्ष के बीच होती है।

Software Engineer Salary

इस फील्ड में शुरुआत में सैलरी 15 से 20 हजार के बीच मिल जाती हैं। अनुभव के साथ- साथ सैलरी में भी इजाफा होता जाता है। अगर आपने आइआइटी जैसे संस्थान से Software Engineering Course किया है तो आप लाखों रुपये प्रतिमाह का सैलरी पैकेज हासिल कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:
गेम डेवलपर कैसे बनें?
फ्लाइट इंजीनियर कैसे बनें?

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कॉलेज

आईआईटी मद्रास
आईआईटी दिल्ली
आईआईटी खड़गपुर
आआइआइटी गोवाहटी
आईआईटी हैदराबाद
बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
दिल्ली यूनिवर्सिटी
जाधवपुर यूनिवर्सिटी
पुणे यूनिवर्सिटी
एनआईटी त्रिची
आइआइटी इंदौर
मिलिया इस्लामिया आदि

Software Engineering से संबंधित प्रश्न

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना पड़ता है?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए उम्मीदवार ने 12वीं फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ सब्जेक्ट से पढ़ाई की हो।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर का क्या काम होता है?
सॉफ्टवेयर इंजीनियर क्लाइंट की रिक्वायरमेंट के मुताबिक सॉफ्टवेयर डिजाइनिंग और डेवेलप करके देता है। इसके साथ ही अगर सॉफ्टवेयर में कोई त्रुटि है तो उसको सही करता है। सॉफ्टवेयर में मोडिफिकेशन और टेस्टिंग जैसे कार्य भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर ही करता हूं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

किसी भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी उसकी स्किल्स और वर्क एक्सपेरिएंस पर निर्भर करती है। अगर किसी ने एंट्री लेवल पर सॉफ्टवेयर इंडस्ट्री को जॉइन किया है तो इस दौरान उसको 15 से 20 हजार के बीच सैलरी मिल सकती है।

वंही अगर सॉफ्टवेयर इंजीनियर को 5 से 7 साल का इस फील्ड में अनुभव है और उसको इस फील्ड का बहुत ही अच्छा नॉलेज है तो वह 50 हजार से 1 लाख या इससे भी ज्यादा महीने में सैलरी अर्जित कर सकता है।

Software Engineer बनने का प्रोसेस क्या है?

1: सबसे पहले 12वीं पीसीएम से पास करें।
2: विभिन्न सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग एंट्रेंस के लिए आवेदन करें।
3: अच्छे संस्थान से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कोर्स करें।
4: कोर्स के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के फील्ड में इंटर्नशिप करें।
5: सॉफ्टवेयर इंजीनियर की जॉब के लिए अप्लाई करें।

Software Engineer के लिए किन स्किल्स की जरूरत होती है।

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज और कोडिंग का नॉलेज
सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट की अच्छी समझ
ऑब्जेक्ट-ओरिएंटेड डिज़ाइन
सॉफ्टवेयर परीक्षण और डिबगिंग।
समस्या समाधान और तार्किक सोच।
टीम वर्क।

Software Engineer kya hota hai?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर वो व्यक्ति होता है, जो सॉफ्टवेयर की डिजाइनिंग, डेवलोपमेन्ट और इम्प्रूवमेंट से संबंधित काम करता है।

10वीं के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने?

अगर आप 10वीं के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के फील्ड में कैरियर बनाना चाहते हैं तो आप 10वीं के बाद पॉलीटेक्निक के माध्यम से डिप्लोमा इन आईटी या डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंस कोर्स करके सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन सकते हैं।

उम्मीद है कि Software Engineering Course in hindi ये लेख आपको पसंद आया होगा। अगर आपके इस लेख से संबंधित कोई सवाल या सुझाव हैं तो आप कमेंट के माध्यम से पूंछ सकते हैं।

Leave a Comment